वीर प्रभु की हम संतान | Veer Prabhu ki hum santaan

वीर प्रभु की हम संतान, पढ़े लिखे होवें विद्वान ||

मन पढ़ने में सदा लगाते, रोज सबेरे मंदिर आते।
अपना जीवन बने महान, वीर प्रभु….

पंच प्रभु हैं ईश हमारे चरणों में नमन हमारे ।
नित हम करते हैं गुणगान, वीरप्रभु…

महावीर की वाणी सुनेंगे, आतम अनुभव आज करेंगे।
हम भी बनेंगे फिर भगवान, वीर प्रभु…

Artist- Pt. Shri Virag Jain

3 Likes