शाश्वत चिद्रूप अहो | Shashwat chidrup aaho

शाश्वत चिद्रूप अहो, शाश्वत चिद्रूप अहो।। टेक।।

परमात्म रूप मंगल स्वरूप, शाश्वत चिद्रूप अहो।
नित्य निरंजन निरूपाधिक, शाश्वत चिद्रूप अहो।।1।।

तृप्त स्वयं में, स्वयं पूर्ण.शाश्वत चिद्रूप अहो।
स्वयं सिद्ध आनंद रूप,शाश्वत चिद्रूप अहो।। 2।।

निज ज्ञेय-ज्ञान-ज्ञाता स्वरूप, शाश्वत चिद्रूप अहो।
जय ध्येय- ध्यान-ध्याता स्वरूप, शाश्वत चिद्रूप अहो ।। 3 ।।

सम्यक्त्व-ज्ञान-चारित्र रूप,शाश्वत चिद्रूप अहो।
जय मुक्तरूप प्रभुता स्वरूप,शाश्वत चिद्रूप अहो।। 4।।

पर भाव शून्य निज भाव पूर्ण,शाश्वत चिद्रूप अहो।
जय अकृत्रिम भगवान अहो,शाश्वत चिद्रूप अहो।। 5।।

पक्षातिक्रान्त अनुभूति रूप,शाश्वत चिद्रूप अहो।
जय समयसार अविकार रूप, शाश्वत चिद्रूप अहो || 6।।

बस हो बस सर्व विकल्पों से,शाश्वत चिद्रूप अहो।
क्षण-क्षण भाऊँ क्षण-क्षण ध्याऊँ शाश्वत चिद्रृप अहो।। 7 |।

Artist: ब्र. श्री रवीन्द्र जी ‘आत्मन्’
Source: Swarup Smaran