Principles of Jain philosophy and Science

Plz Describe one of the principal of jain philosophy that is fully connected with modern science.

1 Like

The law of conservation of mass and energy in modern science is the ‘अस्तित्व गुण’ in Jainism.

The law of conservation of mass or principle of mass conservation states that for any system closed to all transfers of matter and energy, the mass of the system must remain constant over time, as system’s mass cannot change, so quantity can neither be added nor be removed. Hence, the quantity of mass is conserved over time.

Jainism says that a substance(द्रव्य) can neither be created nor be destroyed. Its attributes(गुण) are always constant(ध्रुव).It only changes its form(पर्याय).

4 Likes

With all due respect to the question and the intention with which you might have asked, I just have a few things to say -

  • The problem with modern science is that it will never claim any of its discovery to be the final word (check this link for more). We are hardly taught about the vulnerability of all scientific truths. All we have learnt is that if science says so, it must be true. However, we forget that - ‘if science claims so, it has all the more reason to be false also (in the future).’
  • ‘we are still looking further into this’, ‘so far we have discovered this much’, etc. is all that they can say.
  • Scientists today are even challenging Newton’s law of gravity. They are even suspicious about Einstein’s theory of relativity now.
  • A truth which cannot be verified and that which cannot be falsified does not come under the realm of a scientific truth.

Jainism doesn’t subscribe to such method. No matter in which space or time you are, the fundamental principles of reality / knowledge / ethics have remain unchanged.


When scientists disagree among themselves more than they agree, and all we do is rely upon their testimony (for we hardly carry out any single experiment in our life), what’s the harm in relying upon the testimony of the scriptures / Tīrthaṅkaras?

8 Likes

Jainism told about Existence of micro organisms much before invention of microscope.

Jainism told about life in plants which even inspired scientist Jagdish Chandra Bose to carry out his research on plants and their senses.

Text removed

I think kramabadhaparyay should not cause any doubts on Jainism…it is difficult to understand and interpret it… it only explains nature of universe … it is NOT niyativaad…it is path of total independence…what is your exact confusion??

If I say water boils at 100 degrees that does not mean water will eventually boil by itself… there is kramabadhata in the events happening…it does not take away your independence and control…

When Bhagwan Adinath revealed his grandson Marichi will become 24th Tirthankar… it does not mean he has set the time and place and hence soul of Marichi eventually end up becoming 24th Tirthankar…because Bhagwan Adinath also saw each every decision that Marichi soul will take that will culminate in that soul becoming 24th Tirthankar… where is the niyativaad???

1 Like

हम क्रमबद्ध पर्याय सिद्धान्त का क्या अर्थ करते हैं -

  1. सर्वज्ञ भगवान के केवलज्ञान के अनुसार वस्तु व्यवस्था/ द्रव्यों का परिणमन
    या
  2. वस्तु व्यवस्था/ द्रव्यों के परिणमन के अनुसार सर्वज्ञ भगवान का केवलज्ञान

इनमे से दूसरे अर्थ का ग्रहण ही योग्य है।

  • चूंकि हम आप क्षदमस्थ है तो हमारे ज्ञान में आगामी परिणमन का ज्ञान भले ना हो, परन्तु इस विचार से समता आ जाती है कि “होने योग्य ही हुआ है, अयोग्य कुछ भी नहीं हुआ है”, अतः राग द्वेष के परिणाम का किंचित भी प्रयोजन नहीं है। समस्त आगम में इस समता की प्राप्ति को ही चारित्र और सुख के रूप में परिभाषित किया गया है।

एक और बात - जिनागम के प्रत्येक सिद्धान्त के द्वारा कहीं भी मिथ्यात्व या कषाय भाव का पोषण नहीं किया गया है, यदि हमारे द्वारा उन सिद्धांतो को आधार बनाकर अनजाने में भी मिथ्यात्व, कषाय या प्रमाद आदि का पोषण होता है तो स्वयं के गहरे अभ्यास और ज्ञानी पुरुषों के मार्गदर्शन में अपने दोषों को ढूंढकर दूर करना ही योग्य है। परस्पर में आप और हम सभी साधर्मियों का भी परस्पर में एक दूसरे के प्रति ये कर्तव्य रहना चाहिए। (स्व - पर का स्थितिकरण)

प्रवचन सार जी परमागम की गाथा 93 की टीका की यह पंक्ति मेरी सर्वप्रिय हैं-
वास्तव में यह, सर्व पदार्थ के द्रव्य-गुण-पर्याय स्वभाव की प्रकाशक पारमेश्वरी व्यवस्था भली-उत्तम-पूर्ण-योग्य है , दूसरी कोई नहीं…।

2 Likes

Text removed

more appropriate is ‘WILL’ TAKE.

more appropriate is ‘WILL’ .

Looking at your explanation, are you saying we have no control in our hand for our destiny?

I have read and studied the world from atheistic, Abrahamic and Hindu perspective. I have seen their arguments. My conclusion is it is Jainism that stands in all of them.

You can pick up any external argument outside Jainism you think is correct and wrong in Jainism and let me know. We will analyse it together…

I have watched hours and hours of debates on what are views of people from other faith, science, atheist. I have not heard anything that will shake my understanding and confidence in Jainism…it is the best thing in the world. Amount of logic, rationale and non-dogmatic arguments used in Jainism is unmatched and unparalleled.

So tell me what is it in the outside world that is infallible?

Thanks.

1 Like

Text removed

  1. Only thing in my control is my parinaam and bhaav if I keep them according to Jainism…my job is done.
  2. Your observations are correct but not necessarily your conclusion because to perform any action, it requires honhar and purshartha which comes from us hence we have control on it. Bhaav karma is in our hand.
  3. I believe in Jainism because it is rational logical and can be tested and have direct evidence which none other religion provide. The clarity of Jain theology is extraordinary and complete. There is no leap of faith or god of gaps arguments. Direct evidence is in context of samyekdarshan.
  4. Our aim in pancham kaal is to get samyekdarshan and stay on it. Time will come when by pursharth your aupshamik samyekdarshan will become shayik samyekdarshan and then within short period you will reach moksha.
  5. Regarding 99.99 % population of world, study the viragya of Tirthankar and how it happen and what are they thinking at that time. Every human being must ask to himself ‘who am I’ and ‘what is my purpose’. We all can spread Jainism and let world know. But has their kaal labdhi came to maturity? Every soul will encounter theology of Jainism…it is upto that soul to make decisions…
  6. Ofcourse you know the story of Marichi…he had amazing privilege of present in Bhagwan Adinath samavsharan…yet learned nothing…mithyatva and kashay are very tricky cunning and deadly enemies of soul …you never know how and when they operate

Text removed

Direct evidence = samyekdarshan …that is what I meant…to get direct evidence you need to :

  1. Study Jainism theology (swadhaya)
  2. Understand it. (chintan)
  3. Implement it (shravakachar, Charitra, dhyaan )

All other things you mentioned are at this moment keval gyan gamya…but samyekdarshan you can get direct evidence…and that is the major thing…

It does not matter size and popularity of Jainism…truth cannot be measured on popularity because if we do then when popularity goes down…has the truth become untruth? it can’t be and also it is non sequitur logical fallacy argument

Though we may have been oftrack from the primary question, I’ll refer this blog for this discussion… Especially the remarks by Prof. Veersagar ji…

1 Like

Text removed

“सबकुछ पुरुषार्थ के आश्रित - निमित्त भी, काललब्धि भी, होनहार भी और स्वभाव भी”

मतलब हर पुरुषार्थ सफल होगा ?

There is no comparison between Jainism and other religion. Religion you mentioned belive god as creator…hence there direct evidence will be where I directly witness god creating the world…which they do not offer. Hence cannot be tested. Only way to say they have truth is the judgement day …it means I have to die first and wait for that day…
When you say krambaddh… it does not mean it is ‘decided’ by some one… if I say you will get bonus at end of year performance review and you do get it…it does not mean because I said it will happen… it is a simple logical conclusion from amount of hard and proactive work you have done for the company… it means you were in full control ENTIRE time.

Text removed

their religion can only be true if god as creator has direct evidence and judgement day has direct evidence…

कुछ समय पहले एक लेख लिखा था, उसे यथावत प्रेषित कर रहा हूँ। शोधकर्ता इस विषय पर अधिक चिंतन कर सकते हैं।
आखिर किसने बनाया है दुनियाँ को???
हिंदुस्तान एक ऐसा देश जो भगवान की कल्पना की में सबसे अव्वल है। हिंदुस्तानियों की धार्मिक विचार धाराओं के और अंधविश्वास के कारण इस देश को और देश के देशवासियों को ठगना बहुत ही आसान है ।
न मात्र सिर्फ आसान है अपितु कई देशों ने हिंदुस्तान की इस गलत विचारधारा का फायदा भी उठाया है, जो की एक दृष्टि से देखने पर गलत नही है। क्योंकि यदि सामने बिना किसी मेहनत के आपको करोड़ों रुपये मिलते हों तो उन्हें न लेना तो मूर्खता ही होगी । इसलिये उन्होंने हिंदुस्तान को ठगा तो इसमे कुछ भी गलत नही था ।
लेकिन एक मान्यता जो न मात्र हिंदुस्तानियों के खून में बसी है बल्कि सारे विश्व के प्रत्येक व्यक्ति के मानस में अंकित है,वह है दुनियाँ को बनाने वाला एक ऐसा व्यक्ति जो उनके धर्म से संबंध रखता है।
यदि प्रत्येक धर्म की मान्यताओं पर दृष्टिपात किया जाए तो ख्याल आता है कि
1. हिंदु धर्म के अनुसार ब्रह्मा इस जगत को बनाने वाला है जिसके लिए उसने माया की सहायता से इस दुनिया की संरचना कर दी । उनके अनुसार हम सभी उस ब्रह्मा के ही अंश है ।और इस तरह ब्रह्मा सम्पूर्ण जगत में अद्वेत रूप से व्याप्त है।
2. मुस्लिम मत के अनुसार देखे तो अल्लाह ही इस सारी दुनियाँ को बनाने वाला एक मात्र व्यक्ति है ।सारी दुनियाँ को संभालने की जिम्मेदारी एक मात्र अल्लाह पर ही है|हम सभी अल्लाह के ही नुमाइंदे हैं ओर हमारा फर्ज बनता है की हम अल्लाह को नमाज़ अर्ज करें । और बिना किसी प्रश्न के उस पर पूरा विश्वास कायम रखें क्योंकि यदि हम ऐसा करते हैं तो हमें जन्नत मिलेगी जहाँ पर दुनियाँ के सारे सुख एक साथ ही मिलते हैं।
3. भगवान की इसी दौड़ में कुछ पाश्चात्य धर्म जो की God को इस दुनियाँ को बनाने वाला कहते हैं।
जिनके कुछ नाम इस प्रकार है
# Jesus:

also referred to as Jesus of Nazareth and Jesus Christ, was a Jewish preacher and religious leader. He is the central figure of Christianity. Christians believe him to be the Son of God and the awaited Messiah (Christ) prophesied in the Old Testament.
# कुछ चीनी भगवानों के नाम
Guanyin 观音
Jade Emperor 玉皇大帝
Wangmu Niangniang 王母娘娘
Yan Wang 阎王
Long Wang 龙王
Nüwa 女娲
Nezha 哪吒
The Eight Immortals 八仙
# क्रिस्चियन धर्म के अनुसार
chaos
और न जाने ऐसे कितने ही धर्म है जो भगवान को इस दुनियाँ का कर्ता मानते हैं। कुछ ऐसा मानते हैं की भगवान तो दिखाई नहीं देते तो उसने सबसे पहले किसी इंसान को बनाया । हिन्दू मान्यता के अनुसार वह इंसान मनु है और पाश्चात्य मान्यतानुसार वह एडम है।
श्रीकृष्ण की गीता को खंगालने पर ज्ञात होता है कि इस विश्व के कर्ता धर्ता वे ही है, चाहे वह आध्यात्मिक जगत हो अथवा भौतिक जगत। ऋषियों के रूप में भी वे ही है और देवताओं के रूपमे भी वे ही हैं ,धनुषधारी राम भी वे ही हैं और वीर योद्धा अर्जुन भी वे ही हैं और स्रष्टा कर्ता के रूप में वे ही ब्रह्मा हैं। यह तो गीता के अनुसार उनके ऐश्वर्य का बहुत ही अल्प विवेचन है उनका ऐश्वर्य ऐसा है की उसे कोई अन्य जीव समझ ही नहीं सकता ।
कर्तावाद की इस होड़ में एक ऐसा दर्शन न जाने क्यों इस कर्तावाद की गंध से अछूता रह गया??? न जाने क्यों मधुर विष का असर उस दर्शन पर किसी भी काल में न हो सका??? न जाने क्यों रेगिस्तानी धरती पर एक ऐसे वृक्ष के रूप में वृद्धिंगत हो गया जिस पर न ही तो गर्मी का प्रभाव पड़ा और न ही किसी के दर पर पानी के लिए भटकना पड़ा???
तारीफ की बात तो यह रही कि आधुनिक विज्ञान भी आज इसी वृक्ष के फलों को खाकर अपना पेट पाल रहा है। वह दर्शन कोई ओर नही अपितु जैनदर्शन है। एक ऐसा दर्शन जो अपनी प्रत्येक मीमांसा के लिए जगत में प्रसिद्ध है। फिर चाहे वह ज्ञान मीमांसा हो और चाहे कर्म मीमांसा।
आधुनिक विज्ञान ने जैन धर्म के बहुत से सिद्धांतों को तर्क की कसौटी पर कस कर उन्हें सिद्ध किया …
1.जैसे की पेड़ पौधे भी जीव होते हैं।
2.आलू आदि जमीकंद में जीव होते हैं ।
3.रात्रि भोजन नही करना चाहिए।
4.विश्व में 6 प्रकार के द्रव्य होते हैं।
5.जितनी पृथ्वी वे अभी खोज चुके हैं वे इसके बाद भी ऐसा स्वीकार करते हैं की इसके आगे भी असीम खोज बाकी है।
6.मनुष्य की उत्पत्ति का काल बहुत ही पुराना है।
जैन धर्म के बहुत से सिद्धांत ऐसे हैं जो की तर्क की कसौटी पर खरे उतरते हैं उन्ही में से एक सिद्धांत है कर्म परमाणु का ।
सभी धर्म यह बात स्वीकार करना ही नही चाहते कि यह दुनिया किसी दूसरे के द्वारा नही बनाई गयी है अपितु अपने आप ही बनी है क्योंकि यदि किसी के द्वारा बनाई जाती तो यह न तो अनादि हो सकती ओर न ही अनन्त। इस संबंध में अनेकों तर्क पहले ही बहुत लोग दे चुके है अतः उनकी आवश्यकता नही है।
आधुनिक विज्ञान इस बात को अब शतप्रतिशत स्वीकार करता है कि इस दुनिया को बनाने वाला कोई भगवान नही है अपितु कुछ ऐसे परमाणु हैं जिसमे अन्य परमाणुओं को अपने पास खींचने की सामर्थ्य है।
अभी तक विज्ञान के पास सबसे सूक्ष्म परमाणुओं के रूप में इलेक्ट्रॉन , प्रोटॉन ओर न्यूट्रोन थे ।जिसमे से एक के पास सकारात्मक बल होता है, एक के पास नकारात्मक बल होता है और एक बलरहित होता है। इसके बाद इन्होंने एक क्वार्क नाम का अणु खोजा जो कि इन तीनों से भी छोटा था। इसी क्रम में आगे बढ़ते हुए विज्ञान को इससे भी छोटा परमाणु मिला जिसका नाम था लेपटोन। अभी तक विज्ञान यही मानता आ रहा था की इससे छोटे और कोई अणु इस संसार में हैं ही नहीं । लेकिन आपको यह जानकर आश्चर्य होगा की विज्ञान ने इससे भी छोटा परमाणु अब खोज निकाला है। बहुत प्रयास करने पर भी इससे छोटे अणु विज्ञान को नही मिल रहे थे। लेकिन पिछले 40 साल से इस बात पर वैज्ञानिकों को संदेह था की इससे भी छोटा परमाणु अवश्य ही होगा और इसीलिए पिछले 40 साल से इस संबंध में खोज जारी थी।

सन 1980 में यह research शुरू हुई और बहुत कोशिशों के बाद अंत में जाकर विज्ञान ने लेपटोन से भी छोटा अणु खोज निकाला। जिसको उन्होने नाम दिया हिग्स बोसोन
सन 1980 में शिकागो में इसकी research शुरू हुई थी जो की सन 2010 में जिनेबा स्विट्जरलैंड में पहुचीं। विशाल हेड्रन कोलाइडर में, जिसे एलएचसी या लार्ज हेड्रॉन कोलाइडर कहा जा रहा है, कणो को प्रकाश की गति से टकराया गया है जिससे वैसी ही स्थिति उत्पन्न हुई जैसी सृष्टि की उत्त्पत्ति से ठीक पहले बिग बैंग की घटना के समय थी। 27 किलोमीटर लंबी सुरंग में अति आधुनिक उपकरण लगाए गए हैं। महाप्रयोग के लिए प्रोटॉनों को 27 किलोमीटर लंबी गोलाकार सुरंगों में दो विपरीत दिशाओं से प्रकाश की गति से दौड़ाया गया।
वैज्ञानिकों के अनुसार प्रोटोन कणों ने एक सेकंड में 27 किलोमीटर लंबी सुरंग के 11 हज़ार से भी अधिक चक्कर काटे, इसी प्रक्रिया के दौरान प्रोटॉन विशेष स्थानों पर आपस में टकराए जिसे ऊर्जा पैदा हुई। एक सेंकेड में प्रोटोनों के आपस में टकराने की 60 करोड़ से भी ज़्यादा घटनाएँ हुईं, इस टकराव से जुड़े वैज्ञानिक विवरण विशेष निरीक्षण बिंदुओं पर लगे विशेष उपकरणों ने दर्ज किए, अब उन्हीं आँकड़ों का गहन वैज्ञानिक विश्लेषण किया जा रहा है।
प्रति सेकंड सौ मेगाबाइट से भी ज़्यादा आँकड़े एकत्र किए गए हैं, वैज्ञानिक यही देखना चाहते हैं कि जब प्रोटोन आपस में टकराए तो क्या कोई तीसरा कण मौजूद था जिससे प्रोटोन और न्यूट्रॉन आपस में जुड़ जाते हैं, परिणामस्वरूप मास या आयतन की रचना होती है।

और सालों की खोज के बाद इस परमाणु का नाम “हिग्स बोसॉन” रखा गया।
साथ ही साथ इसे यह भी पता लग गया की दुनिया की संरचना भगवान ने नही की है अपितु इस “हिग्स बोसॉन” के बल से हुई है ।
इसी परमाणु को उन्होंने God Partical नाम दिया है।
लेकिन यह बात बिल्कुल स्पष्ट कर दी है कि दुनिया को बनाने वाला कोईभी नही है इसकी रचना अपने आप ही हुई है ।
इससे जैन धर्म का अकर्ता वाद का सिद्धांत तो सिद्ध होता ही है साथ ही साथ हमारे यहाँ जो स्निग्ध और रुक्षत्व की सहज प्रक्रिया है वह भी सिद्ध होती है ।
इससे मैं यह नही कहना चाहता कि विज्ञान को अविभागी प्रतिच्छेद मिल गए हैं लेकिन इतना जरूर है कि विज्ञान ने जितना भी जो कुछ सिद्ध किया है वह इस बात को सिद्ध करने के लिए न मात्र पर्याप्त है अपितु बहुत है कि इस विश्व का कर्ता कोई भगवान नहीं है, यह प्रक्रिया सहज ही अपने आप होती है।
इसी विचार के साथ विराम लेता हूँ।
आपका अनुभव
4 Likes

Text removed