वीर भज ले रे भाया | Veer Bhj Le Re Bhaya

dev
mahaveer
#1

वीर भज ले रे भाया, वीर भज ले,
जरा सा कहना म्हारा मान ले तू वीर भज ले |

मुट्ठी बाँधे आयो जगत में, हाथ पसारे जासी है रे |
जरा धर्मरि कर ले कमाई, यही आड़ी आसी |(1)

जवानी की अकडाही में तू, टेड़ो टेड़ो चाले |
पर तन्ने इतनी नहीं मालूम रे काई होसी काले |(2)

मोह माया में फूल रहा तू, कर रहा थारी म्हारी |
और ज्ञान धर्म की बात कहे तो लगती तुझको खारी |(3)

छोटी मोटी बनी हवेली यही पड़ी रेहजासी |
और दो गज कफ़न का टुकड़ा तेरा साथ निभासी |(4)

तू मेहमान है चार दिना का, मत ना भूले भाई |
काल के काजी आएंगे तब कंठ पकड़ ले जैसी |(5)

हरख-हरख कर कहे हरख चंद ये मौका नहीं आसी |
प्रभु भजन बिन अरे बावरे तू पीछे पछतासी |(6)

1 Like