अविनाभाव संबंध और निमित्त नैमित्तिक संबंध में क्या अंतर है?

अविनाभाव संबंध और निमित्त नैमित्तिक संबंध में कोई विशेष अंतर है ?

2 Likes

अविनाभवी संबंध एक द्रव्य का उसही द्रव्य के गुण या पर्याय के साथ होता है।इसका कथन अन्वय और व्यतिरेक दो रूप में होता है।
जैसे-जीव और ज्ञान गुण में अविनाभाव संबंध है।
1.जहाँ -जहाँ जीव वहाँ-वहाँ ज्ञान।यह अस्ति की अपेक्षा,यानी अन्वय।
2.और जहाँ ज्ञान नही वहाँ जीव भी नही।यह व्यतिरेक यानी नास्ति की अपेक्षा कथन।

पर निमित्त नैमित्तिक संबंध आसमान जाति द्रव्य पर्याय में होता है।जैसे-जीव और पुदगल।

वास्तव मे नैमित्तिक कुछ नही होता ।जब भी कोई कार्य होता है,तब निमित्त की अपेक्षा उसे नैमित्तिक कहते है।
For eg-कुम्हार ने मिट्टी से घड़ा बनाया।
तो यहाँ मिट्टी और घड़े में अविनाभवी सम्बंध,जहाँ जहाँ घड़ा वहाँ वहाँ मिट्टी।
और कुम्हार और घड़े में निमित्त नैमित्तिक संबंध।

5 Likes

शास्त्रों में धुंआ और अग्नि का अविनाभाव संबंध बताया गया है। क्या धुंआ अग्नि की गुण या पर्याय होती है?

3 Likes

जिनागम में उदाहरण मात्र एकदेश घटित होते है।

आपका कहना बिल्कुल सही है।धुँआ न तो अग्नि का गुण है और न ही पर्याय। पर यहाँ धुंए और अग्नि का उदाहरण अन्वय ,व्यतिरेक को समझाने के लिए है।न्याय मन्दिर में यही उदाहरण हर जगह प्रयोग किया है।

जैसे जहाँ जहाँ धुँआ है, वहाँ अग्नि होगी ही-अन्वय।और जहाँ अग्नि नहीं वहाँ धुँआ नहीं होगा-व्यतिरेक

पर अध्यात्म में अगर आत्मा पर घटित करे तो अविनाभवी संबंध एक द्रव्य का उसके गुण या पर्याय के साथ ही होता है
अविनाभवी का अर्थ है-एक के बिना दूसरे का न होना और सूक्ष्मता से विचार करे तो यह same द्रव्य पर लागू होगा।

6 Likes

मतलब अध्यात्म को न consider करें तो सिद्धांत में अविनाभाव और निमित्त संबंध में कोई विशेष अंतर नहीं ?

जैसे, चलती गाड़ी में पेट्रोल निमित्त है। मतलब गाड़ी चलेगी तब पेट्रोल उस समय present होगा।

गाड़ी जब नहीं चलेगी, तब या तो पेट्रोल (निमित्त) present नहीं होगा या फिर अगर किसी अन्य कारण से खराब होगी तब निमित्त का प्रसंग ही नहीं उठेगा ।

नही ऐसा नही है।पेट्रोल और गाड़ी चलने के उदाहरण में निमित्त नैमित्तिक संबंध तो है पर अविनाभवी संबंध नहीं।
क्योंकि अविनाभवी संबंध के लिए अन्वय व्यतिरेक का होना आवश्यक है।पर अगर गहराई से विचार किआ जाए तो ऐसा नही है।

अन्वय-साधन(पेट्रोल) के सद्भाव में साध्य(गाड़ी का चलना) का सद्भाव।यदि ऐसा होता तो जहाँ जहाँ पेट्रोल होता वहाँ वहाँ गाड़ी का चलना होना ही चाहिए।पर ऐसा नही है।

व्यतिरेक-साध्य(गाड़ी चलना) के अभाव में साधन(पेट्रोल) का अभाव।यानी गाड़ी नही चल रही तो मतलब पेट्रोल नही है।पर ऐसा भी सिद्ध नही होता

यानी पेट्रोल और गाड़ी में अविनाभाव संबंध नही है और दोनो संबंधों मर बहुत अंतर है।

4 Likes

Why not ??
अन्वय - साधन(गाड़ी का चलना) के सद्भाव में साध्य(पेट्रोल) का सद्भाव।

व्यतिरेक-साध्य(पेट्रोल) के अभाव में साधन(गाड़ी चलना) का अभाव।

1 Like

Plz note:
1.Yha sadhan=petrol
Sadhya=gadi ka chalna, not vice versa.

Agar aisa hota to hm petrol se bhari gadi nhi khadi kr sakte,because jha petrol hota vha gadi chalti hi chalti.moreover jha petrol hota vhi gadi chalti,na hm dhakka de pate aur na kheench pate.

Aisa hota to hm petrol ko aur kahi use bhi n kr pate aur na hi use store kr pate.

For further clarification I would request more knowledgeable people like @jainsulabh or @jinesh to help .

3 Likes

What is the basis of determining sadhan and sadhya among 2 things for establishing relation ?

1 Like

पांच समवाय में निमित्त की जब चर्चा की जाती है तब मुख्य रूप से नियामक निमित्त को ही ग्रहण किया जाता है। जीव के परिणामों का निमित्त नैमित्तिक संबंध कर्मो की उदय आदि अवस्था से है। कर्मो को जीव के परिणामों के अंतरंग निमित्त के रूप में कहा गया है। इन अंतरंग निमित्त कारणों से कार्य की व्याप्ति बैठती ही है।
विचार करने पर प्रतीत होता है कि पांच समवाए में सभी की कार्य के साथ व्याप्ति बैठती है। यह व्याप्ति अन्वय और व्यतिरेक दोनो रूप में घटित हो जाती है, अतः विवक्षित कार्य की उनके 5 समवायो के साथ अविनाभाव संबंध घटित होता है (निमित्त में अंतरंग/नियामक निमित्त को लेने पर और उपादान में क्षणिक उपादान को लेने पर ही)।
अविनाभाव संबंध दो दव्यो की पर्यायों के बीच, एक ही द्रव्य की पूर्व-उत्तर पर्यायो के बीच, अथवा द्रव्य-गुण के बीच में भी घटित हो जाता है। इसीलिए अविनाभाव का क्षेत्र निमित्त नैमित्तिक के क्षेत्र से ज्यादा व्यापक है।
निमित्त में बहिरंग निमित्त या अनियामक निमित्त की भी मुख्यता कभी कभी प्रसंगवश की जाती है, उस स्थिति में निमित्त नैमित्तिक संबंध अविनाभाव के क्षेत्र से ज्यादा व्यापक है (क्योंकि बहिरंग निमित्त के साथ में अन्वय और व्यतिरेक का होना आवश्यक नहीं है)।

5 Likes