सुनी ठगनी माया, तैं सब जग ठग खाया | Suni thagni maaya, taen sab jag thag khaaya

सुनी ठगनी माया

सुनी ठगनी माया, तैं सब जग ठग खाया |
टुक विश्वास किया जिन तेरा, सो मूरख पिछताया || टेक ||

आपा तनक दिखाय बीज ज्यों, मूढमति ललचाया |
करि मद अंध धर्म हर लीनौं, अंत नरक पहुँचाया || १ ||

केते कंत किये तैं कुलटा, तो भी मन न अघाया |
किस ही सौं नहिं प्रीति निबाही, वही तजि और लुभाया || २ ||

‘भूधर’ छलत फिरै यह सबकों, भोंदू करि जग पाया |
जो इस ठगनी कों ठग बैठे, मैं तिनको सिर नाया || ३ ||

Artist : कविवर पं. भूधरदास जी

Singer- @Asmita_Jain

3 Likes