सुख आते है दुःख आते है | Sukh aate hain dukh aate hain

सुख आते है दुःख आते है, इन आते जाते सुख दुख में हम मस्त रहते है
हम मस्त रहते है, अज्ञानी रोते रहते है ज्ञानी समता रखते है || टेक ||

कभी मान मिला जी भर भर के, अपमान हुआ जी भर भर के
इस मान अपमान के खेल में हम मस्त रहते है, हम मस्त रहते है
अज्ञानी रोते रहते है ज्ञानी समता रखते है || १ ||

माँ जिनवाणी यह समझाती, निज आतम वैभव दिखलाती
सब द्रव्य अपने में रहते है और मस्त रहते है, हम मस्त रहते है
अज्ञानी रोते रहते है ज्ञानी समता रखते है || २ ||

गाते गाते फकीरा कह जाता, कोई पैदा हुआ कोई मर जाता
इस जनम मरण के खेल में हम मस्त रहते है, हम मस्त रहते है
अज्ञानी रोते रहते है ज्ञानी समता रखते है || ३ ||

गुरु ज्ञान पिटारा खोला है, ये जग सारा एक मेला है
क्षण क्षण बदलते सुख दुःख में हम मस्त रहते है,
हम मस्त रहते है, अज्ञानी रोते रहते है ज्ञानी समता रखते है || ४ ||

यही तो जीना भाई जीना है, विष छोड़ दिया अमृत पीना है
हम अमृत पीते रहते है और मस्त रहते है, हम मस्त रहते है
अज्ञानी रोते रहते है ज्ञानी समता रखते है || ५ ||

2 Likes