सहजानन्दी शुद्ध स्वरूपी l Sahajanandi shuddh swarupi

सहजानन्दी शुद्ध स्वरूपी अविनाशी में आत्मस्वरूप ।
ज्ञानानन्दी पूर्ण निराकुल, सदा प्रकाशित मेरा रूप ॥टेक।

स्व-पर प्रकाशी ज्ञान हमारा, चिदानन्द घन प्राण हमारा।
स्वयं ज्योति सुखधाम हमारा, रहे अटल यह ध्यान हमारा ॥
देह मरे पर मैं नहिं मरता, अजर-अमर हूँ आत्म स्वरूप ।
सहजानन्दी शुद्ध स्वरूपी अविनाशी में आत्म स्वरूप ॥1।

देव हमारे श्री अरिहंत, गुरु हमारे निर्ग्रंथ सन्त ।
धर्म हमारा करुणावंत, करता सब भव-दुख का अन्त ॥
निज़ की शरणा लेकर हम भी प्रकट करें परमातमरूप । -
सहजानन्दी शुद्ध स्वरूपी अविनाशी मैं आत्म स्वरूप ।।2।।

सप्ततत्त्व का निर्णय कर लूं, स्व-पर भेद विज्ञान सु कर लूं।
निज स्वभाव पर दृष्टि धर लूं, राग-द्वेष सब ही परिहर लूं॥
बस अभेद में तन्मय होकर, भूलूँ सब ही भेदl
सहजानन्दी शुद्ध स्वरूपी अविनाशी मैं आत्म स्वरूप ।।3।।

11 Likes

सहजानंद जी की रचना है न? Not sure.

Maybe,but the place where I found this, it was not mentioned.

मेरे पास एक पुस्तक है उससे मिलाकर शाम तक भेजता हूं।

1 Like

Is there an audio of this Bhakti?