तत्त्वार्थ सूत्र अध्याय 2

आत्मा और कर्म इन दोनों के खेल का नाम संसार है।
इन दोनों के खेल को जिसने बंध कर दिया उसी का नाम
“मोक्ष” है।

स्पष्ट करें।:pray::blush:

मोक्षमार्गप्रकाशक अध्याय 2
स्वयं पढ़ना एवं चिंतन कीजियेगा पूरा विषय स्पष्ट हो जाएगा