प्राकृत सिद्ध भक्ति

किसी के पास प्राकृत सिद्ध भक्ति के अर्थ की पीडीएफ है

1 Like

कुन्दकुन्द भारती, संपादक: पन्नालाल जैन, फलटण: श्रुत भण्डार व ग्रन्थ प्रकाशन समिति, 2007.

- इसमें पृ. 367-369 में सिद्धभक्ति मूल-प्राकृत में तथा उसका हिन्दी में अनुवाद दिया गया है।

Link to PDF: Jainelibrary or GDrive [89mb]

3 Likes