वीर्यान्तराय कर्म का अन्य कर्मों के क्षयोपशम से सम्बंध


#1

वीर्यान्तराय कर्म मतिज्ञानावरण आदि कर्मों के साथ कार्य जैसे करता है, वैसे क्या अन्य कर्मों के साथ भी उसका कोई संबंध है?


#2

Can you provide some more details on how वीर्यान्तराय is connected to मति ज्ञानावरण?


#3

योग के लिए भी वीर्य अंतराय कर्म का क्षयोप्शम आवश्यक होता है । सुख के लिए कर्म क्षय के लिए वीर्य की आवश्यकता होती है।

@Sowmay, check out Bhavdeepika’s swadhyay of today for the details.