सच्चे गुरु की परिभाषा

सच्चे देव-शास्त्र-गुरु में क्या गुरू सिर्फ भावलिंगी संत ही होते है ?
इसका विस्तृत वर्णन कहाँ मिल सकता है?

3 Likes

मोक्ष मार्ग प्रकाशक के छटे अधिकार में कुगुरु (और कूदेव, कुशास्त्र) का स्वरूप विस्तार से समझाया है, कृपया वहाँ देखे। वहाँ पर अंत में लिखा है की निर्ग्रंथ के अलावा कोई भी गुरु की उपाधि काबिल नहीं है। इसी जगह पर दर्शनपाहुड़ की कई गाथाओं का प्रमाण दिया है।

3 Likes

इससे तो सभी परिचित हैं ही।

सिर्फ भावलिंग हो ही नही सकता, द्रव्य और भाव की संधि अनुपम है, जहाँ भाव होगा, वहाँ द्रव्य होगा ही होगा।


द्रव्यलिंग और भावलिंग के संदर्भ में इसे अवश्य सुनें।

1 Like

यहाँ प्रश्न में आशय यह है कि जब देव- शास्त्र-गुरु वंदनीय है यह बात आती है, तो यहाँ गुरु में द्रव्यलिंगी संत भी आते है या जो भावलिंगी संत है वही आते हैं?

1 Like

जी,
पूज्यता का सम्बन्ध गुणों से है, यह तो सर्वविदित है।
लेकिन, नमस्कार व्यवहार है, अतः यहाँ व्यवहार ही मुख्य है। अंतरंग की बात की मुख्यता अपने श्रद्धान में होनी चाहिए, ना कि हम दूसरों के अंतरंग को ढूंढते रहें। (यह तो सिर्फ भूमिका हेतु कहा है।)

आते तो गुरु हैं, परन्तु पूज्यता निरपेक्ष हो, तो बेहतर। (यह मेरी मान्यता बन गयी है, मैं चाहूँगा, इसे समीचीन करें।)

• मूल में द्रव्यलिंग देखा जाता है।
• आते तो छठवें-सातवे गुणस्थानवर्ती अर्थात द्रव्य-भावलिंगी मुनिराज हैं।

5 Likes

गुरु - जिसमें गुरुता हो।

गुरुता - मतिकृत, शरीरकृत और आयुकृत तीन प्रकार की होती है। (प्रमेयरत्नमाला)

मतिकृत - बुद्धि/विशुद्धि/सम्यक्त्व; जैसे - अध्यापक, व्रती, मुनि
शरीरकृत - बलिष्टता या ऊँचाई या कला; जैसे - लौकिक कलात्मक या खेल-कूद में प्रधान व्यक्ति (प्रकृत में अकार्यकारी)
आयुकृत - उम्र; जैसे - बड़े भाई-बहिन आदि। (प्रकृत विषय में अकार्यकारी)

मतिकृत गुरुता में भी पूज्यता का सम्बन्ध बुद्धि की तीक्ष्णता से न होकर विशुद्धि और सम्यक्त्व दोनों से है। (मात्र विशुद्धता नहीं और मात्र सम्यक्त्व भी नहीं।)

जिनदेव प्रणीत मोक्षमार्गोपयोगी सिद्धान्त सर्वथा पूजनीय हैं। जैसे - सम्यग्दर्शन, सम्यग्ज्ञान, सम्यक्चारित्र, तप, धर्म, आराधना आदि।

व्यक्ति-विशेष पूजनीयता -

  1. देव - अरिहन्त-सिद्ध
  2. गुरु - देव मुद्राधारी तथा तत्-वचनानुयायी, सम्यग्दर्शन-ज्ञान-चारित्र-युक्त, ज्ञान-ध्यान-तप में रक्त मुनि/साधु (मात्र सम्यग्दृष्टि-ज्ञानी श्रावक नहीं।) [यथाजात मुद्रा = अष्टपाहुड़][रत्नकरण्ड श्रावकाचार]

गुरु की पहचान कैसे?
-जिनवचनों में पाए जाने वाले निश्चय-व्यवहार चिह्नों से
-(अन्य शब्दों में) भावलिंग से युक्त द्रव्यलिंग से।

भावलिंग की पहचान कैसे?
मुनि की विशुद्ध वीतराग भावना से। (शुद्धोपयोग = द्रव्य संग्रह)

द्रव्यलिंग की पहचान कैसे?
अष्ट-प्रवचन-मातृका, 28 मूलगुण आदि। (द्रव्यसंग्रह/पंचास्तिकाय)

व्यक्ति-विशेष की पूजनीयता का आधार क्या है?
शास्त्र - देव प्रणीत आगमिक वचन

बाकी कोई भी पूज्यनीय नहीं है।

4 Likes