षट-गुणी हानि-वृद्धि

षट-गुणी हानि-वृद्धि के बारे में स्पष्टीकरण चाहिए ।
१. स्वरूप
२. कार्य इत्यादि ।
:pray:
@Kishan_Shah @Sulabh ji…

2 Likes

षट गुण हानिवृद्धि = अविभागी प्रतिच्छेद का घटना बढ़ना षतगुण हानि वृद्धी है।
इसमे कारणभूत द्रव्यत्व गुण है।
अनुजीवी गुणों की ही षटगुण ह्नि वृद्धि होती है।

आचार्यो ने इसको स्वभाव अर्थ पर्याय भी कहा है।क्योंकि यह छह हो द्रव्य में विकार और स्वभाव दोनों अवस्था मे पाया जाता है।

यह सभी गुणों में होती है। सभी मे अपेक्षाएं अलग अलग है।

जैसे स्थिति बंध की अपेक्षा करे तो पल्य का असांख्यत्व भाग शेष रहने पर गुण हानि नही होती है।
अनुभाग में नियम अलग है।

अभी पंचास्तिकाय में अघुरुलघुत्व गुण की मुख्यता से बात करे

षटगुनहानी वृद्धि - अविभागी प्रतिच्छेद 【शक्ति के अंश 】का बढ़ना और घटना।इसमे षट वृद्धि होती है और षट हानि होती है।
यह पूरी प्रक्रिया 1 समय मे ही होती है।यह निरंतर स्वभाव और विभाव दोनों अवस्था मे निरंतर चलती रहती है।

षटस्थानवृद्धि - अनंतभाग वृद्धि,असंख्यात भाग वृद्धि , संख्यात भाग वृद्धि, संख्यात गुण वृद्धी, असंख्यात गुण वृद्धि, अनंत गुण वृद्धि

षटस्थान हानि - अनंत गुणहानि, असंख्यात गुणहानि, संख्यात गुणहानि, संख्यात भाग हानि,असंख्यात भागहानि , अनंत भागहानि

Example = 1 गुण - 1 लाख अविभाग प्रतिच्छेद है।
अनंत - 100
असंख्यात - 50
संख्यात - 25

द्रव्य की किसी पर्याय में 1000 अविभाग प्रतिच्छेद है।
अभी आप फ़ोटो के ऊपर से आप समझ सकते है।

4 Likes

धन्यवाद , विषय रोचक है ।
इसके सम्बन्ध में और अधिक पढ़ने को कहा मिलेगा ?
:pray:

1 Like

पंचास्तिकाय गाथा - 84,
जीवकाण्ड - 322 गाथा से
धवला पुस्तक - 6,12
जैनेन्द्र सिद्धांत कोष,

In this video After 35 min

6 Likes

4 Likes

यह कोन सी पुस्तक है?

3 Likes

यह पूरी प्रक्रिया 1 समय मे कैसे होती है?

जिस तरह उत्पाद व्यय ध्रौव्य एक ही समय मे होती है उसी तरह समजना

इसके सम्बन्ध में भिन्न मत हैं कुछ का कहना है कि पूरी प्रक्रिया 1 समय मे होती है, तो कुछ 6 समय में भी मानते हैं।