63 शलाका पुरुष से संबंधित प्रश्न

यदि 63 शलाका पुरुष सम्यक्त्व से ही बंधते हैं तो त्रिपृष्ठ नारायण का पद महावीर के जीव को सम्यग्दर्शन से पूर्व कैसे?

1 Like

भगवान महावीर ने विश्वनन्दी राजा के भव में सम्यक दर्शन प्राप्त कर लिया था और मुनि दीक्षा भी धारण की थी किन्तु निदान बन्ध के कारण सम्यक त्व छोड़ त्रिपृष्ठ नारायण बने और मरकर सातवें नरक गये, किन्तु शेर की पर्याय में सम्यक त्व पुनः प्राप्त किया उसके बाद फिर कभी नहीं छूटा इसलिए शेर की पर्याय में सम्यक त्व को ज्यादा महत्व दिया जाता है।

5 Likes

बहुत बहुत धन्यवाद!

तो क्या यह नियम कि 63 शलाका पुरुष, सम्यक्त्व पूर्वक ही बनते हैं। - अबाधित माना जाए? (वैसे ऐसा नियम किस ग्रन्थ में मिलता है?)

तत्वार्थ सूत्र की चेतन दास जी की टीका तत्वार्थसार

कृपया आगम उद्धरण स्पष्ट करें…
अध्याय, सूत्र, आदि

अध्याय- 3 सूत्र नं०27 पेज नं० 437

1 Like