निगोद ,करणानुयोग संबंधित

निगोदिया जीव ने ऐसा कौन सा अपराध किया कि वह आज तक निगोद से निकला ही नहीं ?

1 Like

That’s absolutely thought-provoking but we just have to agree with it. अनादि से अनंत काल तक ऐसा ही रहेगा और यदि ऐसा ना माने तो अनेक प्रश्न तथा दोष उत्पन्न होंगे (which are again unanswerable).

2 Likes

जैसे सोना हमेसा से पाषाण के रूप में ही पाया जाता है, ऐसे जीव हमेसा से ही निगोद में ।
वास्तव में जीव का कोई अपराध है ही नहीं क्योंकि कर्म अनादि से ही है, इसलिए मैं कसाई नहीं हूँ, मैं अपराधी नहीं हूँ, यह सब विभाव मेरा स्वरूप नहीं है, मुझे जबरन ही अशुभ भाव होते है, इसलिए हे जिनदेव आप मुझमे अवगुण न देखो, मुझे भी अपने समान निर्दोष बना दो क्योंकि मैं आपही की जाती का हूँ।

1 Like