दूध के उपयोग की विधि और समय मर्यादा

चरणानुयोग के मूल ग्रंथ में कही दूध के उपयोग की विधि और समय मर्यादा का वर्णन हो तो कृपया बताए

4 Likes

ज्ञानानंद श्रावकाचार

दूध की मर्यादा 48 minute की है गरम होने के बाद 8 प्रहर की मर्यादा है।
उसके बाद उसमे त्रस जीव उत्पन्न हो जाते हैं।
थैली का दूध अभक्ष्य है।

3 Likes

Text removed

1 Like

अभय जी इसमे स्पष्ट लिखा है कि दूध को छानना चाहिए उसके बाद दूध की मर्यादा पानी की तरह ही बताई है।

2 Likes

Text removed

1 Like


जैनेन्द्र प्रमाण कोष

Can this be the reason for giving maryada kaal for milk?

दूध को छानकर गाय के पेट मे कैसे पहुचा सकते है?
जहां तक हो सके वहां तक पालन करना चाहिए।

Yes,
But not only for milk its realated to all food items for maryada kaal.

Text removed

These permanently fitted छन्ना do more harm than good to त्रस जीव but we do not understand because of “जहां तक हो सके वहां तक पालन करना चाहिए।”

We think in terms of punya and paap ( business) instead of पीड़ा to त्रस जीव.

2 Likes

आपके परिणाम बहुत उज्ज्वल है।
आपका पालन चर्या भी उतनी ही उत्कृष्ट होगी।
आप मोक्षमार्ग में और आगे बढ़े और जल्द ही भगवान बने ऐसी मंगल भावना।:pray::pray::pray:

3 Likes