समान्य जैन कुलाचार

आज एक बहुत ही विकट समस्या उत्पन्न हो गई हैं।आज जैन कुलाचार का पालन करना भी मुश्किल हो जाता है। मै विशेष तौर पर जैन युवाओ की बात कर रहा हूँ। क्योकी जब मैं अपने ही जैनी मित्रो की स्थिति देखता हूं तो बहूत पीड़ा होती है। आजकल जैनियो के बच्चे
Trend के नाम पर सराब का सेवन करते, वे अपने शील धर्म की भी रक्षा नही कर पा रहे।जब घर से बाहर अध्ययन के लिए जाते तो जिनधर्म को भी भूल जाते। यह परिस्थिति बहुत ही खतरनाक हो गई हैं। मेरे कुछ प्रश्न हैं। विशेष कर वे युवा जो Study , jobs , और Business के Purpose से बाहर है।

  1. अगर जैन मंदिर पास ना हो तो नित्य जिनमंदिर के नियम को केसे निभाये?
  2. रात्रिभोज त्याग और जमींकण्दद नियम को कैसे निभाये?
  3. अपने शील की रक्षा केसे हो ?
  4. आजकल कई जैन युवा भी Tend के नाम पर शराब का सेवन करते जो आज के समय मे common हो गया हैं।
5 Likes

मुझे लगता है कि अगर बचपन से संस्कार दिए जाएं तो फिर व्यस्क होने पर भटकने की संभावना कम होती है। पाठशाला भेजना ,प्रवचन में जाना यह सब ज़रूरी है ताकि बच्चे तर्क सहित समझे कि क्या गलत क्या सही है।

  1. अगर मंदिर पास में न हो तो ऑनलाइन सुविधाएं बहुत है। जिन दर्शन , स्वाध्याय हो सकता है।
  2. अगर शहरों में शुद्ध खान पान भोजनालय उपस्थित करवाया जा सके समाज द्वारा तो आसान है
    1. शायद पाठशाला और प्रवचन द्वारा मिले संस्कार ये सब से बचने में सहायक हो।
4 Likes

ऑनलाइन स्वधाय पर जोर दिया जाना चहिये
जैन wathsup ग्रुप और fasebook पर जैन gurp से जोड़े

आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है।
यदि किसी जैनी को इनकी आवश्यकता प्रतीत होती है तो वह किसी न किसी उपाय का आविष्कार कर ही लेता है… नियमों को पालने का।

और रही बात आवश्यकता/रुचि पैदा करने की तो इसका सीधा सम्बन्ध संस्कारों से है।

There is a topic in psychology called personality traits… So, he/she should know their set of personality traits or the influencers should know how to identify the personality of the person and accordingly there can be a way to have a peaceful jain lifestyle.

If they are logically driven - they should be directed towards such scriptures, if they are very active then they should be encouraged and supported to take over social welfare activities, if they are veracious readers then they should be given aagamik scriptures, likewise on and forth.

5 Likes

आज हालत ऐसी है कि कोई हॉटेल या बाजार का भोजन न करता हो और पानी छानकर पिता हो उसको लोग बहोत बड़ा व्रती समझते है।जब कि ये तो जैनी मात्र को सहज में ही होना चाहिए।जो ये क्रिया करता है उसको कई बार कठिन परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है,लोगो के ताने भी सुनने पड़ते है।कई बार गृहस्थ में इस मुद्दे को लेकर कषाये भी हो जाती है।लेकिन फिर भी हमे अपने नियम पर अडिग रहना चाहिए, लोगो की बात की बातों के सामने मौन रहना चाहिए।

8 Likes