जैन/श्रमण परंपरा वैदिक परंपरा से अधिक प्राचीन

श्रमण परंपरा वैदिक परंपरा के पूर्व में भी थी। यह बात अनेकों पुरातत्वविदों ने तथा प्राप्त एतिहासिक तथ्यों के माध्यम से सिद्ध करने की कोशिश की गई है।
लेकिन इस संदर्भ में आज भी अनेकों दार्शनिक एकमत नहीं हैं।
यहाँ इन विषय को लिखने का एक मात्र प्रयोजन है कि हम अधिक से अधिक शोधकर्ताओं के शोध के आधर से प्रमाण इकठ्ठे करें।
स्रोत विदेशी पुरातत्वविद, वेद, गीता, महाभारत आदि अनेक ग्रंथ हो सकते हैं।

कोशिश करें कि मूल स्रोत की पूरी जानकारी के साथ ही प्रमाण प्रस्तुत किया जाए।

1 Like

1 Like

1 Like