शौच धर्म | सत्य धर्म

शौच धर्म को तो कषायों की अपेक्षा पहले मनाते है पर सत्य धर्म को पहले बनाने के पीछे क्या अपेक्षा है

3 Likes

I believe there is no specific reason for it as such.

It’s just that Acharya KundaKunda has kept satya dharma before shauch dharma and others like Acharya Umaswami have kept shauch dharma above satya dharma.

5 Likes

जब कषायों के अभाव से देखते है तो शौच पहले आता है
जब धर्मों की अपेक्षा से देखते हैं तब स्तय पहले आता है।, क्योंकि सत्य धर्म में शाश्वत सत त्रिकाली ध्रुव आत्म तत्त्व में स्थिर होने की बात है। जब शाश्वत सत में पूर्ण रूप से स्थिर होंगे तभी अंत में लोभ कषाय का अभाव होता है, अतः धर्मों की अपेक्षा से सत्य पहले शौच बाद में आता ह।

5 Likes

इस अपेक्षा से तो सब से बाद मे लेना था क्योंकि लोभ का अभाव तो लास्ट मैं होता है

2 Likes

आपका प्रश्न एकदम सही है, परंतु थोड़ा गौर से देखे तो उत्तर उसी में लुप्त है।
शौच को आखरी में ही रखा है।
कैसे???
प्रारम्भ के 5 धर्म स्वभाव की अपेक्षा, फिर 3 धर्म उपाय स्वरूप और आखरी के 2 धर्म सारभूत।
स्वभाव की अपेक्षा वाले 5 धर्मो में शौच को आखरी में ही रखा है।

3 Likes