अचौर्य महाव्रत | मुनिराज

अचौर्य महाव्रत में बताया है कि महाव्रती जल और मिट्टी भी बिना दिये ग्रहण नहीं करते |
क्या महाव्रती मुनिराजों को शौच के लिये श्रावकों की राह देखनी पड़ती होगी? क्योंकि शुद्धि के लिये जल और मिट्टी तो वह स्वयं ले नहीं सकते |

Source: https://www.facebook.com/groups/1588208451395943/permalink/2342429549307159/

3 Likes

जितना मुझे ज्ञात है, मुनिराज के कमंडलु में श्रावक जन स्वयं आकर जल भर देते हैं व शौच आदि के क्रिया के लिए भी श्रावक जन साथ जाते हैं और उन्हें वहाँ मिट्टी देते हैं।

ये बात तो हुई जब भी श्रावक साथ ही होते हैं मुनिराजों के, पहले जब मुनिराज वन में रहते थे, तब की प्रक्रिया किसी को ज्ञात हो तो बताये अथवा इसी तरह होती हैं तो बताएं।

3 Likes


छठवीं ढाल 1 ला छंद
शुद्धि के लिए मुनिराज बिना मालिक की मिट्टी और जरने का पानी, बहती हुई नदी , तालाब जिसके ऊपर उस समय कड़ी धूप पड़ी हो उसका इस्तेमाल मात्र शुद्धि के लिए कर सकते है।
एक उल्लेख इस भी आता है समाधि के लिए मुनिराज चावल की घास जो कि सुखी होती है और वे किसी के काम मे नही आती उसका इस्तेमाल समाधि कराने के लीये करते है।

4 Likes

  • Jain Shraman - swaroop and samiksha page 152

But then cloth is required for जल छानना । Also gas is required for making sacchit water as acchit. Parigrah, अयाचक वृत्ति and ahimsa tradeoff will be there. Drinking can be stopped but not शौच.
Great difference in theory and practice.

1 Like

भूल हो तो क्षमा कीजियेगा।
लेकिन ऐसा हमने पंडित श्री बैनाड़ा जी से कई बार सुना है कि बहता हुआ पानी स्वयमेव प्रासुक होता है, तो छानना तथा अचित्त करने की आवश्यकता प्रतीत नही होती।

मुनिराज को कोई भी अवस्था मे मरने की अवस्था मे भी किंचित भी परिग्रह ग्रहण करने योग्य नही है।

आगम में कहा है कोई भी नियम व्रत लेने से पहले हर प्रकार से आने वाली विपत्तियां विचार कर नियम लेना चाहिए।एकबार लेने के बाद उसमे शिथिलता होना व्रत भंग का पाप लगता है
जैसे किसीने कुए के पानी का नियम ले लिया अभी वह अन्य कही भी जाना बहुत कठिन है अभी जहाँ कुआँ नही हो और बोर का पानी इस्तेमाल करे तो नियम भंग का दोष आवेगा इसीलिए नियम लेने से पहले हर अवस्थाओं का विचार करना उचित है।

अगर वर्तमान काल मे ऐसे झरने तालाब आदि नही मिल रहे है और इस एक ही नही ऐसे तो के अन्य कारण भी है जो वर्तमान में 28 मूलगुण का पालन करना संभव नही है तो मुलगुण को भंगकर भी अपने को महाव्रती कहलाना उचित नही है
उससे अच्छा कि आयु पूर्ण होने को हो तो समाधि लेवे अगर नही हो तो दीक्षा छेड़कर 7 वी प्रतिमा धारण करना उचित है।

परंतु ऊँची भूमिका में हल्का काम सम्भव ही नही है
और gas बनने में भी असंख्यात त्रस जीवो की हत्या हो रही है उसका इसतेमाल करना आगम सम्मत नही है

1 Like