विभिन्न मतों में प्रमाण का स्वरूप एवं भेद

अन्य भारतीय दर्शनों में प्रमाण के कितने भेद स्वीकार किये गए हैं, उनके नाम क्या हैं एवं भेद कौनसे हैं?

2 Likes

अभी संक्षिप्त के लिए षड्दर्शनसमुच्चय जो कि हरिभद्रसूरि विरचित है उसको एक बार पढ़ना आनंददायक एवं शंकाओं के निवारण के लिए उत्तम औषधि है।
षड् दर्शन- सांख्य, योग, मीमांसा, नैयायिक, जैन, बौद्ध, चार्वाक

2 Likes

7 Likes