क्या चाय अभक्ष्य है?

Kya chai (tea) coffe abhakshya he??.

1 Like

हाँ, चाय नशाकारक अभक्ष्य हैं।

6 Likes

नशाकारक अभक्ष्य:- ऐसे पदार्थ जो कि नशा उत्पन्न करते हैं जिनके सेवन से हित , अहित का ध्यान नहीं रहता और सूक्ष्म जीवों का अधिक घात होता है उसे नशाकारक अभक्ष्य कहते हैं।
चाय में कैफीन (नशीला पदार्थ) की मात्रा ज्यादा पाई जाती है और यह बार-बार पीने की आदत लगाती है, और यह नशाकारक भी है अतः यह पीने योग्य नहीं है। क्योंकि यह नशाकारक अभक्ष्य में आती है। इसी श्रेणी में कॉफी, बीयर, शराब आदि आती हैं। पीना ही है तो चाय का विकल्प/ काढ़ा/उकाली जो कि औषधियों से तैयार होता है स्वास्थ्य के लिए भी लाभकारी है उसका सेवन अच्छा विकल्प है।

8 Likes

जिनको चाय पसंद है , उनके लिए अर्जुन छाल एक बहुत अच्छा उपाय है । मेने प्रयोग नही की है , but राजीव दीक्षित जी के अनुसार उसका उपयोग बहुत लाभदायक होता है। उसमें दूध डालकर , मिश्री (खांड) डाल कर , बनाया जा सकता है।

4 Likes

@Tanmay_Jain जी
क्या चाय/कॉफी से ऐसा नशा होता है जिससे हित अहित का भान न रहे !?
बेशक इसकी लत लग जाती है इसलिए इसका त्याग करना चाहिए।

2 Likes

आप स्वयं कह रहे हैं कि बेशक लत लग जाती है। गंभीरता से विचार करें तो लत किसी चीज के नशे के कारण ही संभव है ।
होश व विवेक वाली बात दूसरी है ऐसा कुछ हो भी सकता है इसका विश्वास के साथ कहना नहीं बनता किंतु अभक्ष्य के प्रकरण में चाय को नशाकारक में लिया जाता है। ऐसा मुझे भान है।
हिताहित की बात भी जान पड़ती है अगर चाय के लती व्यक्ति को एक टाइम चाय न मिले तो तिलमिला उठता है और बेचैनी होने लगती है।

2 Likes

अंग्रेज जब भारत 1750 में आये तब उन्होंने सर्वप्रथम चाय का उत्पादन शुरू किया था उससे पहले भारत में चाय उत्पन्न नहीं होती थी। east india कंपनी से चाय की शुरुआत हुई थी। उन लोगों का bp कम रहता था इसीलिए वे पीते थे। normal और ज्यादा bp वालों के लिए चाय धीमा जहर जैसा काम करती है।

आयुर्वेद चाय को मना करता है; क्योंकि चाय पीने से acidity/गैस होती है acidity कई रोगों की जड़ है।उसको पीने से विटामिन आदि कुछ नहीं मिलता। सबसे उत्तम हमें गाय का दूध पीना चाहिए यह सम्पूर्ण आहार जैसा काम करता है।

आज हम जो चाय पीते हैं उसमें manufacturing procees में पत्ती को भठ्ठी में डालते हैं उसमें पत्ती के साथ छोटे-छोटे जीव भी आ जाते हैं। त्रस घात का भी दोष लगता है और भठ्ठी रात-दिन चलती है तो रात्रि भोजन त्याग वाला चाय नहीं पी सकता है।
चाय की जो भूसी बचती है उसको गटर आदि में डाल देते है उसमें जीवों का घात होता है।

जिस जीव को ऐसा श्रद्धा में हो कि चाय पीने के बाद ही में swaddhyay कर सकता हूं उनको सम्यक्त्व होना और आत्मसन्मुख होना शुद्धोपयोग होना कठिन है।

4 Likes

तो क्या चाय की पत्ती को भूना या उबाला जाता है??

आपने जो उपरोक्त जानकारी दीं वह रोचक एवं बढ़िया हैं।
बागभट्टाचार्य आयुर्वेद में चाय को भारत के योग्य नहीं मानते क्योंकि चाय की तासीर गर्म है व वह ठंडे प्रदेशों के लिए है। इस संबंध में राजीव दीक्षित जी भी काफी कुछ कहते हैं। जिज्ञासु लोगों को उनके यूट्यूब चैनल पर यह जानकारी मिल जाऐंगी।

3 Likes

चायपत्ती को वे dryery में रखते है।जिससे वे सूखा हो जाये और लंबे समय तक बना रहे।