समवाय का स्वरूप

समवाय किसे कहते हैं? किस-किस ग्रंथ में इसकी चर्चा विस्तार से मिलती है?