व्रत की पूजा और धर्म की पूजा में अंतर

दस लक्षण धर्म, रत्नत्रय धर्म और सोलह कारण भावना की पूजन तो सामान्य रूप में करी ही जाती हैं, परंतु व्रतों की पूजन क्यों नहीं; यदि करते है तो क्या वो सही है?

2 Likes
  1. रत्नत्रय पूजन में सम्यक्चारित्र की पूजा और उसमें व्रतों की पूजा गर्भित है.

सम्यक्चारित्र पूजन (कविवर द्यानतराय जी) -


  1. रत्नत्रय विधान (पाण्डे राजमल जी द्वारा रचित) में इन्हीं तेरह प्रकार के चारित्र की एक-एक की अलग अलग पूजन है (त्रयोदश चारित्र - पाँच महाव्रत, पाँच समिति और तीन गुप्ति).
5 Likes

व्रतो की पूजा में किन भावो को पूजा जा रहा है, यह भी बताइए? क्या शुभ भावों की पूजा करना ठीक है?

1 Like