मंगलाचरण में बदलाव कहां तक उचित

http://sourabhsagar.com/latest-artical.aspx?id=9

मंगलम पुष्पदंताद्यो बोलते हैं सौरभ सागर जी महाराज instead of कुंदकुंद for shri pushpadant bhutbali (Shatkhandagam) ??

I came to know this yesterday by seeing a 16 minute video of channel mahalaxmi.

Are the reasons given by him have any relevance ? Even he has published a book on it citing his reasons ?

यह सब कषाय बढाने और पंथ वाद बढ़ाने वाले विषय है।
जहां पर दूसरे को गलत और अपनी मान्यता को किसी भी तरह संहि करने का प्रयास किया जाता हो उन सबसे दूर रह कर जिनवाणी का यथार्थ स्वाध्याय करे।

हमे आगम में जो लिखा है उसी को ही मान्य रखकर स्वादध्याय करना चाहिए।

4 Likes

Not directly an answer to the question, but the nature of वक्ता and श्रोता has to be understood by us.
Gatha 4,8 of पुरुषार्थ सिद्धि उपाय




The last answer is of very much importance.

Ideally, we should definitely read Gatha 1-8 of पुरुषार्थ सिद्धि उपाय by आचार्य अमृतचंद्र

5 Likes

:+1::ok_hand: स्पष्ट एवं उचित समाधान