वनस्पति के प्रकार/भक्ष्य-अभक्ष्य


#1

आलू आदि तो जमीकंद में आते हैं, इसलिए ये अभक्ष्य हैं | इसके अलावा बैगन, फूलगोभी आदि जो जमीन के ऊपर लगते हैं, फिर भी वे अभक्ष्य हैं |
तो ऐसे और कौन-कौन सी सब्ज- फल हैं जो अभक्ष्य हैं ? तथा इन सबका विभाजन कैसे किया गया है ?


#2

ओला घोलबड़ा निशिभोजन, बहु बीजा बैंगन संधान।
बड़ पीपल ऊमर कठूमर, पाकर फल जो होय अजान।।
कन्दमूल, माटी, विष, आमिष, मधु, माखन अरु मदिरापान।
फल अति तुच्छ, तुषार, चलितरस, जिनमत ये बाईस
अखान।

ये 22 प्रकार के अभक्ष्य जिनवाणी में बताए हैं।

तथा 5 अन्य भागों में अभक्ष्यों को विभाजित किया है:

त्रसघात, बहुघात, अनुपसेव्य, नशाकारक, अनिष्टकारक

और अधिक यहाँ से पढ़ें: http://www.jainkosh.org/wiki/भक्ष्याभक्ष्य


#3

कोई भी अनजान वास्तु या फल को जब तक जांच परख न लिया जाए तब तक उसका सेवन नहीं कारण चाहिए।

जैसे की सर्वार्थ जैन ने पद्य के माध्यम से बहुत अच्छा एवं स्पष्ट उत्तर दिया है। अति तामसिक पदार्थ का खाना निषेध है। माने जैसे की जैकफ्रूईट अनजान है तोह इसका सेवन नहीं करना चाहिए। इसके अतिरिक्त ऐसे अनेक पदार्थ है।
अतः जानो और फिर सेवन करो यदि पूर्ण रूप से जान न हो तोह उसका सेवन कदापि नहीं करना, कारण मंडी में तोह अनेक नए खाद्य पदार्थ आने ही वाले है सो हम सबकी जान हमेशा नहीं रख सकते है परन्तु जान होने पर हम अपना निर्णय ले सकते है।


#4

मूल रूप में वनस्पति के 2 भेद होते हैं

  1. साधारण वनस्पति
    2.प्रत्येक वनस्पति

साधारण वनस्पति के 2 भेद हैं

  1. नित्यनिगोद
    2.इतर निगोद

प्रत्येक वनस्पति के 2 भेद हैं

  1. प्रतिष्ठित
    2.अप्रतिष्ठित

साधारण वनस्पति = एक शरीर के अनंत जीव स्वामी हो
ये हमारे ज्ञान गोचर नहीं हैं। ये एक साथ जन्म मरण करते हैं।

प्रत्येकवनस्पति = एक शरीर का एक स्वामी ।

प्रतिष्ठित वनस्पति = जिसमे जीव रहें ( अभक्ष्य)
अप्रतिष्ठित = जिसमे जीव ना रहें (भक्ष्य )

एक वस्तु प्रतिष्ठित अप्रतिष्ठित दोनों भी हो सकती है

जैसे = नीम की नवीन कोपल में अनंत निगोदिया रहते हैं
but जब बड़ी होते ही अप्रतिष्ठित हो जाती है ।

भक्ष्य अभक्ष्य विवेक=

  1. जिस टहनी के joint में मोटापन (गाँठ) ना हो(अप्रकट हो) ।
  2. जो बराबर हिस्से में टूट जाये ऐसे फल, फूल , अंकुर, टहनी, पत्ते , बीज आदि
  3. जिसमे तन्तु( पत्तो की धारी ) ना हो
  4. कंद, मूल की छाल मोटी हो
  5. छेदने पर पुनः वृद्धि हो जाये

ऐसे लक्षणों से युक्त वनस्पतियां प्रतिष्टित होती हैं। वो खाने योग्य नही है।


#5

Nice explanation.

What does this actually mean? A tree with one body or a part of a tree (like fruit, vegetables or flower) with one body?

I also heard that vegetables with uncountable microbes (असंख्यात जीव) are also eatables (भक्ष्य). Is it प्रतिष्ठित वनस्पति?

Can you explain it a bit further?