पुरानी परंपराएँ

#1

These are the general thoughts that I have time to time and wanted to know others views on this.
Some times I think that we Jains are also becoming like other people who just follow what they read or hear from their monks and do not go for crux.

  1. बहुत मंदिरो के बाहर लिखा जाता है कि औरते सर ढककर प्रवेश करें। सर ढकना सिर्फ औरतों के लिए क्यों है।? सर ढांकना सम्मान के लिए होता हैं तो पुरुषो के लिए वो apply नही होता।

  2. 2 3 बार मेने कुछ प्रवचन में ऐसा सुना है कि पहले का जमाना बहुत अलग था पत्निया पति को स्वामी मानती थी चरणों मे रहती हैं अब ये देखने को नही मिलता। ये तो 200-400 साल पुरानी बात हुई तो इस तरीके से क्या hum और कुछ हजार वर्ष पीछे जाए जब एक से ज्यादा पत्निया रखना भी सही माना जाता था

I haven’t asked these questions coz I believe in feminism or something just want to know views of others on this.

2 Likes
#2
  1. पहले के जमाने मे पुरुष पगड़ी पहनते थे तो उनका सिर स्वतः ही ढका रहता था। स्त्रियों में साड़ी प्रचलित थी जो कि एक भारतीय भेष भूषा है। शादी के बाद सास-स्वसुर आदि बड़ों के सामने उनको साड़ी के पल्ले से सिर ढकने का रिवाज था । ये विनय का प्रतीक होता था।
    पहले अगर पगड़ी उछलती थी तो उस पुरुष के मान-सम्मान का उछलना होता था। इसलिए पगड़ी पहनना पुरुषों के लिए मान का प्रतीक था। उदहारण- आप जितने भी पुराने कवियों, राजा महाराजाओं के चित्र आज देखेंगे सबमे पगड़ी या टोपी अवश्य ही दिखेगी।
    वैसे ही मंदिर में त्रिलोकी नाथ के सामने उनकी विनय और सम्मान करने के लिए सिर ढकने का कहा जाता है।
    और ये बात केवल स्त्रियों पर लागू नही होती।ये तो हर उस व्यक्ति के लिए है जो भगवान की विनय करना चाहता है ।
    इंदौर के एक मंदिर में मैंने मंदिर के द्वार पर महिलाओं के लिए दुपट्टा और पुरुषों के लिए टोपी रखी देखी है। हो सकता है किन्ही मंदिरों में केवल दुप्पट्टा ही रखा जाता हो।
    अगर पुरुष सिर नही ढकते हैं तो इससे यह जानना की उन्हें शर्म आती है, ये उनका ignorance है आदि इसके कारण है।

बाकी सिर ढकने का उल्लेख मुझे अभी तक कही मिला नही । अगर आपको मिले तो जरूर बताइयेगा।

13 Likes
#3

कभी कभी हम किसी का बात का अर्थ जाने बिना follow करने लगते हैं और इस ही तरह मिथ्या मान्यताओं का जन्म होता है और प्रचलन। आपने जो कहा में उससे सहमत हूं। हमे हर मान्यता के पीछे उसका reason जानने का प्रयास करना चाहिए। हो सकता है कुछ बाते समय विशेष के लिए बनाई गई हो

5 Likes
#4

शायद इसका कारन सफाई से हो, क्योकि सर ढकने से बाल नहीं गिरेंगे। आजकल restaurant में भी food serve करने वाले सर ढकते है।

मंदिर जी में धोती दुप्पटा पहने पुरुष भी सर ढककर अभिषेक पूजा करते है।

5 Likes
#5

ek parmpara aur bhi chalti he jese,
PANCH BALYATI KI MURTI , BHARAT BHAUBLI AADINATH KI MURTI, SHANTI KUTHU AARHNATH KI MURTI, mandir me virajmaan krna, particular yahi murtiya kyu virajit hoti he, kya koi mithya manntta ho skti he.
mene kal ek aur niyam dekha, somwar ko neminath ka upwas , mangal ko parshwnath, guru ko aadi…ityadi…kya ye bhi mithya manntta he.
pooja krte waqt thona rakhna kya ye bhi.
bedi ke peeche jakar , sar tikana.
please inn sabke baare me bataye.

#6

mene kal ek aur niyam dekha, somwar ko neminath ka upwas , mangal ko parshwnath, guru ko aadi…ityadi…kya ye bhi mithya manntta he.

Yeh mithya maanyata hai. Yahan tak ki hafte ke specific din alag alag tirthankaro ke set kar dena bhi mithya maanyata hai. Aur Munisuvrat bhagwaan ke poojan aadi se shani grah ke kashto ka nivaran maan na bhi mithyatva ka hii prateek hai.

PANCH BALYATI KI MURTI , BHARAT BHAUBLI AADINATH KI MURTI, SHANTI KUTHU AARHNATH KI MURTI, mandir me virajmaan krna, particular yahi murtiya kyu virajit hoti he, kya koi mithya manntta ho skti he.

Yeh toh bas logo ki apni apni rati aur raag hai specific bhagwaan ke prati. Nothing wrong in this. Bhakto ne basically similar bhagwaan ki pratima ko group kar diya hai.

Jaise Aadinath-Bharat-Bahubali bhagwaan mai pita putra ka sambandh.
Shantinath-Kunthunath-Arnath bhagwaan mai teeno bhagwaan chakravarty aur tirthankar dono pado ke dhaari thay.
5 Balyati Tirthankar aajeevan brahmacharya vrat ke dhaari thay.

pooja krte waqt thona rakhna kya ye bhi.

Iske baare mai mujhe nahi pata zyaada kuch.

bedi ke peeche jakar , sar tikana.

Aisa maine logon ko karte huye dekha hai par isko aap matra sar tekna ya dhok dene jaisa samajh sakte ho. Haalaki dhok toh bhagwaan ke saamne dene zyada logical maalum padta hai. Parantu peeche jakar sar tekna bhi kuch khaas galat nahi lagta mujhko.

#7

Isi bahane upvaas ho jae to dikkat nahi. Koi teerthankar kisi se kam nahi. Lekin Neminath, Parshvanath, Mahavira, Adinath jyaada famous hain, to unke naam se chal gaya. Mithya nahi hai. Bas ye hai ki parampara jo ek baar chal jaati hai, vo bahut aaage tak chalti hai.

Lekin kisi day ko teerthankar se jodkar dusre teerthankar ko kam nahi samjhna chahiye.
Aajkal log shani amavasya se Munisuvrat nath bhagwan ko jod diye to baki teerthnakar ko shani grah mitane mein less samajh lete hain. Ye galat hai. Vaise me shani grah vagera ko bhi nahi manta.

2 Likes