शिव और ऋषभ देव में समानता व अंतर


#1

बहुत लोग मानते हैं की शिव और ऋषभदेव एक ही हैं और उनमे समानता बताते हैं |
पर जैसा की मुझे ज्ञात है की शिव एक रूद्र थे और जो उनका शिवलिंग चिन्ह माना गया है उसकी एक कथा है | तो क्या कही जैन शास्त्रों में इस कथा और शिव का उल्लेख मिलता है ?


#2

जैन शास्त्रों में रुद्र के रूप में ही शिव का उल्लेख मिलता है । ऋषभदेव और शिव की समानता जैन शास्त्रों में नहीं मिलती, वैदिक शास्त्रों में (वेदों में) उपलब्ध होती है ।


#3

आज ही यह प्रश्न मेरे मन मे उठा था।
शिव का कैलाश पर निवास और भगवान ऋषभदेव का कैलाशगिरि से सिद्धालय गमन, शिव का वाहन नंदी- बैल और भगवान ऋषभदेव का चिन्ह भी बैल ऐसी समानताओं की तुलना करके एक माना जाता है
लेकिन, जैन मत के अनुसार यह तुलना संभव ही नही।


#4


यह विषय के सन्दर्भ में इस लेख में कुछ बातें और विस्तार से बताई है


#5

I found this answer most useful with respect to this question.
https://qr.ae/TWXNmY


#6

वो कथा आपने कहा सुनी? मैंने भी एक कथा सुन रखी है, एक ब्रह्मचारी जी से, और वे ब्रह्मचारी जी टोडर मल स्मारक से जुड़े थे। मै इसलिए बता रहा हु, क्युकी शायद उन्होंने भी वो कथा वही सुनी हो।


#7

मैंने सुना है की उनकी मृत्यु संभोग करते करते हुई थी और वो व्यंतर बन कर गांव वालो को परेशान करने लगे | तब गांव वालों ने उनसे क्षमा मांग कर परेशान न करने का उपाय पूछा तो उन्होंने कहा की मेरी मृत्यु जिस अवस्था में हुई थी उसी अवस्था में मुझे पूजा |
तबसे जो शिवलिंग देखा जाता है उसकी पूजा की प्रथा चल पड़ी |
क्या अपने भी ये ही सुना है ?


#8

कुछ ऐसा ही।
उनकी बीवी उन्हें सह नहीं पा रही थी। उनकी पहली कई बीवी भी सम्भोग करते मर गयी थी। अपने भाई के कहने पर उनकी बीवी ने उन्हें सम्भोग करते हुए मर दिआ। उनके पास काफी विद्या थी। मरने के बाद उनकी विद्या क्रोदित हो गयी। बाकी का हिस्सा वही है, बस अंतर है की वो बात उनकी विद्या ने करी थी।

even we can relate this to Sanathan Dharam story about the death of his previous wife.


#9

04-03-2019%2022-21-46
Please also check the definition of Rudra.


#10

हाँ शायद ऐसा ही कुछ था मुझे exact याद नहीं है |


#11

If you want you can know more about Rudras here: http://arnavk.me.ht/wp-content/uploads/2016/08/Jain-History.pdf

I pressed ctrl+f, but only got 1 shiv there, though there are stories of many rudras.


#12

ये कहानी आराधना कथाकोष में दी हुई है । शायद जो 169 महापुरषो में 11 रूद्र होते है, ये वो वाले रूद्र नहीं है, इनका मात्र नाम ही रूद्र है । चेलना रानी 7 बहन थी, जिनमे प्रथम माता त्रिशला- महावीर भगवान की माता और सबसे छोटी चंदनबाला ।

Read full story : here