अभव्यसेन| मोक्षमार्गप्रकाशक 7वा अधिकार


#1

‘सम्यग्ज्ञान का अन्यथारूप’ प्रकरण में पंडित जी अभव्यसेन का उदाहरण देते हैं। कृपया अभव्यसेन की कथा बताएं।


#2

भावपाहुड़ 52 की गाथा में अभव्य सेन मुनि के सन्दर्भ में ऐसा बताया है ,कि वह एक दव्यलिंगी मुनि थे उन्हे ११अंग का ज्ञान था ,फिर भी उन्हें भाव श्रवणपना नहीं था ।