परिणति और पर्याय ।


#1

पर्याय और परिणति मैं क्या अंतर है ?


#2

पर्याय को परिणति भी कहते हैं। फिर भी पर्याय और परिणति में थोड़ा अंतर कर सकते हैं।यथा - पर्याय एक समय की होती है, परिणति जो अनेक पर्यायों में सतत बनी रहती है। यह परिणति 3 प्रकार की होती है । 1)अशुभ परिणति 2)शुभ परिणति 3) शुद्ध परिणति।
अथवा ऐसा भी कह सकते हैं कि
एक पर्याय के 2 रूप हैं(उपयोग और परिणति)। उनमें से एक रूप परिणति भी है।