पंच पताले की चर्चा।


#1

45 लाख योजन की 5 वस्तुएं कौन सी हैं?


#2

1.ढाई द्वीप का विस्तार 45 लाख योजन है।
2.सिद्ध शिला 45 लाख योजन प्रमाण है।
3.आठवीं इशत्प्रप्रगभार भूमि 45 लाख योजन विस्तृत है।
4.प्रथम स्वर्ग के ऋतु इन्द्रक विमान का विस्तार 45 लाख योजन है।
5.प्रथम नरक के सीमन्तक इन्द्रक बिल का विस्तार 45 लाख योजन है।


#3

कृपया इन दोनों में अंतर स्पष्ट कीजिये ।


#4

Sorry,
मैंने थोड़ा और देखा, पर दोनों एक ही हैं।
हरिवंश पुराण के 6 सर्ग, 127 श्लोक के भावार्थ में दोनों को एक ही कहा है।


#5

एक ही लग रहा था, लेकिन अलग लिखा था तो मुझे लगा कुछ विशेष होगा ।

फिर उपर्युक्त list में एक और add होगा ?


#6

सिद्ध शिला के स्थान पर सिद्ध क्षेत्र 45 लाख योजन का होता है।
सिद्धशिला ,आठवीं इशत्प्रप्रगभार भूमि है और सिद्ध क्षेत्र लोक के अंत में तनुवातवलय में है, जहाँ सिद्ध रहते हैं।