तत्त्वार्थसूत्र की कितनी टीका हैं? | Tattvarth sutra ki kitni teeka hain?

  1. वाचक उमास्वामी कृत तत्त्वार्थाधिगम भाष्य (संस्कृत);
  2. समंतभद्र आचार्य (ई.2) विरचित 9600 श्लोक प्रमाण गंधहस्ति महाभाष्य;
  3. श्री पूज्यपाद आचार्य (ई.श.50) विरचित सर्वार्थसिद्धि;
  4. योगींद्र देव विरचित तत्त्व प्रकाशिका (ई.श.6)
  5. श्री अकलंक भट्टाचार्य (ई.620-680) विरचित तत्त्वार्थ राजवार्तिक;
  6. श्री अभयनंदि आचार्य (ई.श.10-11) विरचित तत्त्वार्थ वृत्ति;
  7. श्री विद्यानंदि आचार्य (ई.775-840) विरचित श्लोकवार्तिक।
  8. आ.शिवकोटि आचार्य (ई.श.11) द्वारा रचित रत्नमाला नामकी टीका।
  9. आ.भास्करनंदि (ई.श.12) कृत सुखबोध नामक टीका।
  10. आ.बालचंद्र (ई.श.13) कृत कन्नड़ टीका।
  11. विबुधसेनाचार्य (?) विरचित तत्त्वार्थ टीका।
  12. योगदेव (ई.1579) विरचित तत्त्वार्थ वृत्ति।
  13. प्रभाचंद्र आचार्य नं.8 (ई.1432) कृत तत्त्वार्थ रत्नप्रभाकर
  14. भट्टारक श्रुतसागर (वि.श.16)कृत तत्त्वार्थ वृत्ति (श्रुत सागरी)।
  15. द्वितीय श्रुतसागर विरचित तत्त्वार्थ सुखबोधिनी।
  16. पं.सदासुख जी (ई.1793-1863) कृत अर्थ प्रकाशिका नाम टीका।
  17. पं. बुधजन जी कवि जयपुर ( विक्रम संवत १८२०- वि. सं. १८९५ अनुमानित) द्वारा विरचित- तत्त्वार्थबोध टीका ।
    इनके अलावा और कितनी टीका है?
3 Likes

ऊपर की लिस्ट में १७ )सिद्धसेनगणी (वि. सं. ५) कृत तत्त्वार्थ भाष्यवृत्ति और १८ ). हरिभद्रसुनुकृत तत्त्वार्थ भाष्यवृत्ति (वि. सं, 5-६) जोड़नेपर जहां तक ज्ञात है इस महान ग्रंथ पर मुख्यतः १८ टिकाए पूर्वकाल में लिखी गई; और भी हो सकती हैं । वर्तमान में भी अनेक विद्वानों ने इसी पर टिकाए लिखी हैं । कुल मिलाकर इनकी संख्या १०००से भी अधिक होंगी,

2 Likes
  1. रामजी भाई(सोनगढ़ )
  2. चेतनदासजी की टीका