सब जैन धर्म की जय बोलो | Sab Jain Dharm Ki Jai Bolo

सब जैन धर्म की जय बोलो, हम गीत उसी के गाते हैं,
जो विश्वशांति का प्रेरक है, हम उसकी बात सुनाते हैं ॥

यह सत्य अहिंसा ब्रह्मचर्य का, पाठ हमें सिखलाता है,
अज्ञेय परिग्रह त्याग हमें, मानव बनना सिखलाता है,
ये पंच महाव्रत सार जगत-२,
ये शास्त्र-ये शास्त्र सभी बतलाते हैं ॥(1)

सच्ची राह बताने को चौबीस हुये अवतार यहाँ,
सबने इसकी महिमा गायी, और पार हुये संसार यहाँ,
सिद्धांत अमर सुखदाई है-२,
जो ध्यान-जो ध्यान धरे तिर जाते हैं ॥(2)

है जैन धर्म वट वृक्ष बडा, जिसकी छाया अति शीतल है,
जिन वर्धमान और साधू को पा,धन्य हुआ अवनीतल है,
रखने को जीवित मानवता-२
हम जैन- हम जैन ध्वजा फ़हराते हैं ॥(3)

Artist - अज्ञात
1 Like