Pehli baar nigod se jeev ka pravesh

#1

mera prashn yha he ki, pehli baar ( aaj tak uski exit nhi hui)nigod me jeev ke karm kese bandhate he.kyuki 1 indriya ko kuch n kuch sahyog chahiye hoga karm bandhan ke liye.Aur waha toh koi sahyog possible nhi aur n unke pass mann he jo ve sukh dukh soch sake.

1 Like
#2

जीव अगर संसार में है तो उसके पास शरीर होगा और अगर शरीर है तो शरीर के पालन पोषण में अन्य जीवों को बाधा पहुंचेगी ही । कर्म बंध तो संसारी जीव के प्रति समय होता है।

1 Like
#4

per, nigod me toh har jeev ko ek jesa bandhan , ek jesa sukh , ek jesa dukh he hota hoga, ve kon si apne karmo ki pratikriya dete honge.
fir unhe kese 6 mahine 8 samay me 608 jeevo ko aane ka moka mila hoga

#5

पेड़ भी एक इंद्रिय होते हैं लेकिन उनको भी सुख दुख, प्रतिक्रिया होती है। जगदीश चंद्र बोस ने भी यह साबित किया है ।
6 महीने ८ समय, यह प्रकृति का नियम है, जैसे अन्य नियम हैं (सेब नीचे ही क्यूं गिरती है, ऊपर क्यूं नहीं जाती, आदि ?

1 Like
#7

pandit ji me dharm per prashn nhi utha rha, mjhe logic ki jarurat nhi he, per jese ped aadi ek indriya jeev he ve toh nigod chhed kr yha aa gye he, aur unki karman vArgna bhi yah hongi, per jo jeev abhi tak nigod se nikle he nhi,unki karman vargna kha se aagyi. ye mera prashn he.
nigod me toh har jeev ko ek jesa bandhan , ek jesa sukh , ek jesa dukh he hota hoga, nigod me thodi n karm jeevo ke jyada kam hote honge, jo ve punya paap kare.isiliye nigod me punya aur paap kese hota hoga .ya mere concept clear nhi he…isiliye …please ispashth kare unh

#8

कार्मण वर्गणा प्रत्येक संसारी जीव के होती है सिद्ध बनने के बाद ही वह छूटती है।

कार्मण वर्गणा अनादि काल से होती है। अगर वह हमेशा निगोद में ही रहा हो लेकिन उसके कार्मण वर्गणा कभी भी नहीं छूटी, प्रत्येक समय कर्म बंधते हैं, सांस लेने में भी कर्म बंधते हैं।

1 Like
#9

yha baat ab kuch palle padi, dhanyawad.