जिनवाणी अमृत रसाल | Jinvani Amrut Rasal

जिनवाणी अमृत रसाल, रसिया आवो जी सुणवा ॥

छह द्रव्यों का ज्ञान करावे, नव तत्त्वों का रहस्य बतावे |
आतम तत्त्व है महान रसिया आवोजी ॥(1)

विषय कषाय का नाश करावे, निज आतम से प्रीति बढ़ावे |
मिथ्यात्व का होवे नाश रसिया आवोजी ॥(2)

अनेकान्तमय धर्म बतावे, स्यावाद शैली कथन में आवे |
भवसागर से होवे पार रसिया आवोजी ॥(3)

जो जिनवाणी सुन हरषाए, निश्चय ही वह भव्य कहावे |
स्वाध्याय तप है महान् रसिया आवोजी ॥(4)

Audio by @At.Nishtha18

2 Likes