जिनधर्म से है प्रेम तो भावना ये भाईये | Jindharm se hai prem to bhavna ye bhaiye

जिनधर्म से है प्रेम तो भावना ये भाईये ।

जिनधर्म से है प्रेम तो बस भावना ये भाईये ।
देह जाये तो भले जिनधर्म रहना चाहिये ।।
जिनमार्ग की हो प्रभावना जिनध्वजा यू लहराईये ।
देह जाये तो भले जिनधर्म रहना चाहिये ।।

वीतरागी अहो जिनेश्वर धन्य वे मुनिराज है ।
निरपेक्ष सहज स्वरूप दर्शाते करें उपकार है ।।
मंगलमयी प्रभु शरण पाके जगोत्तम हो जाइये ।
देह जाये तो भले जिनधर्म रहना चाहिये ।।

जिनआज्ञा के भंग होने का हदय में भय सदा ।
ऐसे मुमुक्षु नहीं करते मार्ग उल्लंघन कदा ।।
आत्महित ले लक्ष्य में शिवपंथ में बढ़ जाईये ।
देह जाये तो भले जिनधर्म रहना चाहिये ।।

सत्य है शिवमयी सत्पथ बनो इसके पक्षधर ।
मोह अच्छे का बुरा है जान लो है विज्ञवर ।।
मिथ्यात्व बैरी अंश भी है बुरा जान नशाईये ।
देह जाये तो भले जिनधर्म रहना चाहिये ।।

अनादि निधन सब वस्तुयें सीमा में करती परिणमन ।
कर्ता न धर्ता कोई किसी का सब द्रव्य अपने में मगन ।।
कर्त्तत्व भार उतारकर निर्भार अब हो जाईये ।
देह जाये तो भले जिनधर्म रहना चाहिये ।।

Artist: डॉ. विवेक जैन, छिंदवाडा

1 Like