How can Arihant Bhagwan live without food?

#1

One of the10 extraordinary facts about Kevalgyan is that Bhagwan doesn’t eat after getting kevalgyan. How can they live for crores of years without food, as the body is still there? From where they get the energy?

1 Like
#2

Ratnakrand Srvakachar:



image

image
image
image
image
image

5 Likes
#3

Can we say Kevali Bhagwan in eating his karmas and from there they are getting the energy? Afterall Jainism also believes karmas as particles too. Can we also say वो अपने शरीर में stored ऊर्जा का इस्तेमाल कर रहे है.? Like we can also live for some days without food, but our body weight will reduce.

If the answer to both the questions is “Yes”, it does compliance with “Mass-energy equivalence” i.e. E = mc^2

It also explains why Lord Aadinath’s Shamavsaran was there for crores of years and Lord Mahavira’s Samavsaran was for just a few years as the weight of Lord Aadinath was many many times as compared to the weight of Lord Mahavira.

Also when I think why a common man “of Lord Mahavira time” will die in few days without food, whereas Lord Mahavira went for several years without food, My mind says, he has destroyed his Ghatiya karmas, but also his physical activity was very less too. Like he was travelling in the sky. I think there was some external force which was driving him, like we say it was they punya of the people which was driving him.

What do you think am I thinking in the right direction?

1 Like
#4

No dear… You are going in wrong direction now…
Not anything and everything can be mixed and linked to eachother by establishing a cause-effect relationship between them.
Even though, in jain siddhant texts there exists karma theory for the explanation of modifications of the conscious soul and matter, they are just accepted as ‘gyapak hetu’. It is wrong to understand them as ‘karak hetu’.
“जिनागम में भिन्न द्रव्यों में कर्ता-कर्म सबंध नहीं स्वीकारा है, उनमें मात्र निमित्त - नैमित्तिक संबंध ही संभव है (परन्तु वह भी योग्य नियमों के घटित होने पर ही)”

The other theories you are putting fails on many grounds, so please avoid simply mixing all together different concepts.

Some carefulness with language will be appreciated. If the translation in English results in the above-mentioned type, I would suggest you that in those cases We can write in Hindi.

In forum there exist a Freedom of discussion/thought/speech/writing…, but it should be used wisely.

4 Likes
#5

Sorry, मेरा वो मतलब नहीं था जो आप समझ रहे है, मेरा मतलब था की वो अपने शरीर में stored ऊर्जा का इस्तेमाल कर रहे है. I am extremely sorry if you took the meaning other way round.

Yes, now I understand how it feels after reading it. So I am rewriting it.

#6

@jainsulabh Can you please tell me what the highlighted part means?

1 Like
#7
संसार अवस्था में जब तक सयोग अवस्था विद्धमान है तब तक प्रति समय अनंत पुद्गल परमाणुओ का ग्रहण होता ही रहता है (इसकी संख्या को समयप्रबद्ध कहा गया है जिसका प्रमाण ‘सिद्ध राशि का अनंतवा भाग और अभव्य राशि का अनंत गुना’ है)। गुणस्थानो की परिपाटी में देखने पर १-१३वे गुणस्थान तक ऐसा होता है। इन परमाणुओ के ग्रहण होने से जीवों को यहाँ आहारक कहा गया है। मरण पश्चात जब तक (विग्रह गति में १-३ समय मात्र) नया शरीर धारण नहीं किया (ऋजू गति से गमन करने वालों को छोड़कर) मात्र उन १-३ समयों में ही जीव आहार वर्गणाओ के सम्बन्ध में अनाहारक रहता है, लेकिन वहाँ भी कर्म परमाणुओ का तो निरंतर ग्रहण होता ही है। उन पुद्गल परमाणुओ के ग्रहण की अपेक्षा से आहार की सिद्धि होती है। (इसके विशेष नियमो का करणानुयोग के ग्रंथो से ही अध्ययन अच्छा रहेगा। सामान्यता से समझने के लिए तत्वार्थ सूत्र जी का अध्याय २, सूत्र २७-३० देखिए)।

इसीलिए यहाँ पर केवली भगवान के भी एक समय की स्थिति वाला इर्यापथ आस्रव की अपेक्षा कर्माहार को स्वीकार किया है और कवालाहार का निषेध किया गया है।
मुझे नहीं लगता की ऐसी कोई बात अरिहंत परमात्मा के परमौदारिक शरीर के सम्बन्ध में लागू होती है। आपका कहा हुआ मान लेने पर कई दोष उत्पन्न होंगे। जैसे कि शरीर में stored ऊर्जा का इस्तमाल करने के लिए इस सम्बंधी विकल्प का राग भाव चाहिए, और ऐसे परिणमन के लिए पर द्रव्य का कर्तापना भी चाहिए, सो दोनो ही बात वस्तु स्थिति से विपरीत है। शरीर की सहज/स्वयमेव ही आयु कर्म और अन्य अघाती कर्म के उदय प्रमाण स्थिति रहती है।
5 Likes
#8

I may be wrong, but I don’t agree on that. If we take the example of “Sukhmal Muni” he was not having any “Raag” to his body as he was getting eaten by wolfs. But then also he survived for 3 days as he was using the energy stored in his body.

Moreover, “using the energy” and “wanting to use to energy” are 2 different things.

1 Like
#9

Thanks to @shubham1993jain @Chinmay @jainsulabh for this discussion, learned a lot of things from here. And Shubham try to connect Science with Jainism, much appreciated. It would be very interesting to also understand scientific principles behind our philosophy.
And please use a bit easier version of Hindi if possible so people like me also could understand easily if we do not have very sound background of Jain Grammar.

Thank You Very Much :blush:

1 Like
#10

The discussion is only helpful when you have interest in that. It is your interest which will help you learn more.
My some other thoughts about Science and Jainism here

https://qr.ae/TUK8fd

https://qr.ae/TUt0QW

1 Like
#11

You are doing great brother, keep going, it is the need of the hour to understand things in scientific manner too along with religious faith. You would like you read these articles and do contemplate on what the brain is :

https://embryo.asu.edu/pages/roger-sperrys-split-brain-experiments-1959-1968

These kinds of thing literally boost my confidence about how little reliable our own thinking process is…haha and there is somethings way beyond we could understand or ever perceive by just thinking in logical and rational manner in the brain. Reasons we give for what we like are always biased by our desires. I bet anything could be proved right or wrong using brain but soul is even beyond proving anything and hence Lord Mahaveera prevails. :smiley:

2 Likes
#12

@Chinmay
Thanks a lot for sharing the reference from Ratnakrand Srvakachar. It really helped me to get some of my doubts cleared.

1 Like
#13

@jainsulabh Thank you for putting so many efforts for trying to explain me. Not only for this thread, but also for all threads.

#14

@jainsulabh

भैया मै नहीं कह रहा, आचार्य समन्तभद्र कह रहे है।

अरिहंत भगवन नोकर्म को निरंतर ग्रहण करते रहते है। नोकर्म शरीर ही तो है। अरिहंत अवस्था में भगवान् का शरीर परमौदारिक हो जाते है , मतलब शरीर से सारे जीव समाप्त हो जाते है। भगवन परमौदारिक वर्गणाओ का आहार करते है।

#15

भाईजी ये बात तो स्वीकार है ही, इसमें तो कोई विवाद ही नहीं है। यही आगम का वचन है।

ऊपर इस उत्तर में यही बात और इसी ग्रंथ के (ग्रंथ के मूल रचयिता आचार्य समंतभद्र स्वामी, भाषा टीकाकार प. सदासुख दास जी) आधार से ही मैंने कहीं है।

मेरी आपत्ति शब्दों के वाच्यार्थ से थी। हिंदी/संस्कृत में आहार और English में eating को एकार्थ रूप से लेने में अर्थ का अनर्थ हो रहा था क्यूंकि आहार का बड़ा ही व्यापक अर्थ में प्रयोग जैनाचार्यों ने किया है, जबकि eating में उतना व्यापक अर्थ नही है।
दूसरी आपत्ति ‘energy लेने’ वाली भाषा से थी। एक तो वो स्वयं अनंत बल के धनी है, और वस्तु- स्वातंत्र्य की दृष्टि से भी वैसा कथन नहीं बनता हैहां, निमित्त की मुख्यता से कथन हो सकता है, परन्तु पर के कर्तापन की भाषा में सावधान रहने की भी जरूरत है। भिन्न द्रव्यों में निमित्त नैमित्तिक संबंध से सहज ऐसी स्थिति बनती है, इस रूप में कथन ज्यादा अच्छा रहेगा।

3 Likes
#16

Sorry, मै आपका कहा ठीक से समझ नहीं पाया था। मुझे शुद्ध हिंदी जल्दी से समझ में नहीं आती, बहुत ज्यादा concentrate करने पर कभी कभी आ जाती है। आपने पुद्गल परमाणुओं का जिक्र तो किया था, लेकिन आप शायद कर्म और नोकर्म का भेद करना भूल गए थे।

I may be wrong, but according to me, जब आहार करने से आपत्ति नहीं, तो ग्रहण किए हुए आहार से energy लेने में भी आपत्ति नहीं होनी चाहिए।

आचार्य समन्तभद्र कहते है,

उसी प्रकार केवली भगवान के भी कर्म - नोकर्म वर्गणा के आहार से “ही” देह की स्थिति रहती है

मुझे लगता है की उनका मतलब energy से ही है।