ज्ञान सम्यक मेरा हो गया | gyan samyak mera ho gaya

ज्ञान सम्यक मेरा हो गया,
मिथ्याभ्रम का अन्धेरा विलय हो गया ।

दृष्टि एकान्त की ही बनी थी मेरी,
और अनेकान्त से बेखबर मैं रहा
स्याद्वादी सहज हो गया,
ज्ञान में ज्ञान का ज्ञान अब हो गया ॥ १ ॥

माना अपना उसे जो ना अपना हुआ,
जो था अपना उसी से पराया रहा
भेदविज्ञान अब हो गया,
एक अभेद की धारा में, मैं बह गया ॥ २ ॥

वीतरागी प्रभु, वीतरागी गुरु,
मोक्ष की मानो, तैयारी हो गयी शुरू
धन्य नरभव, मेरा हो गया,
राग जाने न जाने कहाँ खो गया ॥ ३ ॥

दृष्टि में आतमा भक्ति परमात्मा
ऐसी आराधना हो सिद्धात्मा,
मार्ग ऐसा मुझे मिल गया
मानो भव के भ्रमण के हरण हो गया ॥ ४ ॥

1 Like