Gunas in Dravya - what do you think?

#1

A Dravya has infinite Gunas. I wanted to know what do you guys think?.. Are these guna separately exist in Dravya… or Gunas are defined just to explain the Dravya - it is difficult to describe Dravya without breaking it into Guna etc. Let me know your thoughts.

1 Like
#2
"जो द्रव्य के सम्पूर्ण भागों और उसके सम्पूर्ण अवस्थाओं में पाया जाए उसे गुण कहते हैं ~ जैन सिद्धान्त प्रवेशिका
इस परिभाषा को पढ़के ऐसा लगता है जैसे कि द्रव्य एक भिन्न चीज़ होगी और गुण कोई अलग चीज़ होगी। जैसे किसी बैग में समान भरते हैं उसीप्रकार से द्रव्य में गुण भरे होंगे! (…'जो द्रव्य के सम्पूर्ण भागों में पाया जाए…) परंतु ऐसा नहीं है।
द्रव्य, अनंत गुणों से भिन्न कुछ है ही नहीं। जिसप्रकार हाँथी, घोड़ा, सैनिक आदि के समूह को ‘सेना’ कहा जाता है परंतु उन individuals के समूह से अलग “सेना” नाम की कोई पृथक वस्तु तो है ही नहीं। उसीप्रकार अनंत गुणों के समूह को द्रव्य कहा जाता है परंतु द्रव्य नामक कोई भिन्न पदार्थ नहीं है, अपितु गुणों के समूह को ही द्रव्य कहते हैं।
8 Likes