घड़ी घड़ी पल पल| ghadi ghadi pal pal

घड़ि-घड़ि पल-पल छिन-छिन निश-दिन,
प्रभुजी का सुमिरन कर ले रे।

प्रभु सुमिरेतैं पाप कटत है, जनम मरन दुख हर ले रे॥(1)
मनवचकाय लगाय चरन चित, ज्ञान हिये बिच धर लेरे॥(2)
'दौलतराम' धर्म नौका चढ़ि, भवसागरतें तिरले रे॥(3)

Artist - पंडित श्री दौलतराम जी

6 Likes

हे मनुष्य ! प्रत्येक घड़ी. प्रत्येक पल और प्र तिक्षण अर्थात् निरंतर और नित्यप्रति तू प्रभु का स्मरण कर; उनके गुणों का चिंतन कर।
Hey man each moment,each second,each minute ,each hour means everytime, you remember the Lord constantly and continuously; Reflecting on their qualities.

प्रभु के स्मरण से, उनके गुणों के स्मरण से पापों का नाश होता है, जन्म मरण के दुख दूर होते हैं।
Sins are destroyed by remembrance of God, by remembrance of His qualities, the sorrows of birth are removed.

मन और वचन और कायसहित प्रभु के चरणों में चित्त लगाकर, ज्ञानस्वरूप को हृदय में धारण करो।
Keeping the mind and the words and the body at the feet of the god, establish the knowledge in your heart.

दौलतराम कहते हैं कि धर्मरूपी नौका पर चढ़कर तू इस भव-सागर, संसार समुद्र के पार हो जा।

Daulatram says that you get on this religious boat and cross this ocean of this whirlpool, the world.

2 Likes