Difference between Mithyadrishti & Samyakdrishti

#1

If I ask my mother to prepare delicious food or something which I like to eat whilst keeping Jain rules & regulations in mind then does that make me mithyadrishti as I am wishing for Rasna(taste) indriya(sense) Bhog(pleasure)?

Even though I already know that Bhog-Upbhog samagri is the cause of sins and the pursuit of sensory objects only increases such sinful karma.

1 Like
#2

That’s not the reason for calling you मिथ्यादृष्टि।

मिथ्यात्व का कारण दर्शनमोहनीय हैं - श्रद्धा का विपरीत परिणमन। रसना (taste) तथा इन्द्रिय भोग (pleasure) - चारित्र का विपरीत परिणमन हैं।

यहाँ विशेष इतना कि - गुणस्थानानुसार चारित्र का परिणमन होने से भी सम्यक्त्व का होना / न होना घटाया जा सकता हैं। जैसे:

  • चतुर्थ गुणस्थान में अविरत होने से न्याय की सीमा में रहकर युद्धादि भी करता हैं तथा अनेक संज्ञी पंचेन्द्रिय जीवों की हिंसा का कारण होता हैं, तथापि सम्यक्त्व सुरक्षित रहता हैं - परन्तु जैसी कषाय अनंतानुबंदी में होती हैं, वैसी यहाँ नहीं होती।
  • पंचम गुणस्थान में त्रस हिंसा का त्यागी होने पर भी न्याय-नीति की सीमा में रहकर स्त्रीसेवनादि क्रियाओं में असंख्यात त्रस जीवों की हिंसा का कारण होता हैं तथापि सम्यक्त्वी / अणुव्रती कहलाते हैं - परन्तु जिसे लोक में निंदनीय माना जाता हैं, ऐसी प्रवर्ति में नहीं प्रवर्तते।
  • छठें गुणस्थान में पूर्ण अहिंसा व्रत के धारी होने पर भी, आहार-विहारादि क्रियाओं में भूमि पर रहने वाले सूक्ष्म त्रस जींवो की हिंसा तो होती हैं (तथा किन्ही मुनियो को अवधिज्ञान द्वारा जानने में भी आता हैं) तथापि सम्यक्त्वी / महाव्रती कहलाते हैं - परन्तु आहार करते समय किंचित भी स्वाद के प्रति positive/negative preference आ जाये, तो गुणस्थान गिर जाता हैं।

Jainism is a very dynamic & comprehensive religion. क्रिया, परिणाम तथा अभिप्राय के बदलने से पुण्य-पाप के बंध में भी बड़ा अंतर पड़ जाता हैं।

4 Likes
#3

Dhanyavaad. :pray: Mere mann mai yeh shanka kaafi dino se thi.

Parantu ek aur shanka phir mann mai uthti hai -

Agar koi vyakti video games or tv serial dekhta hai jisse raudradhyaan aur arthdhyaan hota hai toh bhi wah avirat samyakdrishti kehlayega ya fir mithyadrishti?

Kyunki gyaani ko maalum toh hota hai ki yeh galat hai phir bhi agar wah isko paap bandh ka karan jaan kar nahi chhodta toh phir shraddha kaisi? Phir uska samyaktva rahega bhi ya fir dosh sahit samyakdarshan ya fir mithyadarshan ki koti mai aayega??

#4

I am not confirm, but I think this will be a दोष in सम्यक्त्व। सम्यक दर्शन के 8 अंग होते है। अंग 2nd है निकांक्षित अंग। मतलब किसी भोग आदि की इच्छा न होना ।

Really sorry for the bad handwriting.

#5

Nahi yah toh humko thoda galat sa lag raha hai kyunki “nihkankshit” ang ka taatparya toh yeh hai ki samyakdarshan aadi vrat saiyam aur pooja se kisi fal ki iccha na karna.

Mere anusaar agar koi vyakti video games khelta hai ya movie ityaadi dekhta karta hai toh wo aasrav aur bandh tatva ka viprit parinaman kar raha hai jo ki charitra mohniya ke uday se bhi hota hai aur bahri karano se bhi.

Ab isme samyaktva ka ghat hoga ya nahi mai bas usme sure nahi hu :confused:

#6

Main difference will definetly be inside, i.e the shraddhan, but in terms of outside, I think pratmanuyog se mahapurushon aur samyagdrashti jeevon ke jeevan charitr ko dekhna chahiye aur unke jeevan ki ghatnaon ko example k roop m dekha ja sakta h. (Parantu dhyan rahe, kisi k bhi audayik bhav sambandhi dosh aadarniya nahi, bhale hi vah mahapurushon ke jeevan sambandhi kyu na ho)
Kis bhumika m kaun se karya ho sakte hai aur kaun se parinaam/pravriti nahi hoti h, ispar prakash charnanuyog m milega.

2 Likes