धनि - धनि ते मुनि गिरी वनवासी | Dhani dhani te Muni Giri Vanvaasi

धनि - धनि ते मुनि गिरी वनवासी |
मार - मार जग जार जार तें, द्वादस व्रत तप अभ्यासी || टेक ||

कौड़ी लाल पास नहिं जाके, जिन छेदी आसापासी |
आतम - आतम पर - पर जानै, द्वादश तीन प्रकृति नासी || १ ||

जा दुःख देख दुःखी सब जग ह्वै, सो दुःख लख सुख व्है तासी |
जाकों सब जग सुख मानत है, सो सुख जान्यो दुःखरासी || २ ||

बाहिज भेष कहत अन्तर गुण, सत्य मधुर हित मित भासी |
‘घानत’ ते शिवपंथ पथिक हैं, पांव परत पातक जासी || ३ ||

Artist- पं. घानतराय जी

1 Like