चलो सैर करेंगे | chalo sair krenge

poem
#1

चलो सैर करेंगे …
अपने मोक्ष महल की चलो सैर करेंगे
जीव राजा आगे आओ, श्रद्धा ज्ञान के डिब्बे लाओ।
प्रभु अरहंत हैं गार्ड हमारे, अब न रुकेगी गाड़ी…
चलो सैर करेंगे …

चारित्र की झंडी मिली, कर्मों की फिर धूल उड़ी
मुनिराज ने मार्ग बताया सरपट दौड़े गाड़ी…
चलो सैर करेंगे…

मोक्षपुरी की रेल है, यह संसार तो जेल है।
सम्यग्दर्शन टिकिट कटा लो, कहती हमसे गाड़ी…
चलो सैर करेंगे…

Artist- Pt. Shri Virag Jain

1 Like