Allopathy medicines

What’s the best way to find out if a medicine is atleast pure veg?

4 Likes

There is not much as of now. Now a days some companies are using green and red dots. Apart from that we can write to companies but there are high chances they won’t reply.
Many medicines these days are prepared in labs with chemicals. Hormone related pills , vaccines can include animal derived ingredientes. Capsules are made with gelatin which is made with animal.

3 Likes

IN GENERAL CASE कोई भी medicine market में lauch करने के लिए pharma company को FDA से मंजूरी लेनी पड़ती है और उसके लिए उसको ANIMAL और HUMAN पर टेस्टिंग का रिपोर्ट बताना पड़ता है |जो की बहौत CRUEL है |

Allopathy was started around 100- 150 years ago and our Ayurveda and naturopathy was from chaturthkal.Most of allopathy medicine ke raw material tak pahochna bahut mushkil hai.

इस विषय पर ब्र.सुमत्प्र्काश्जी कहते है modern जितनी भी दवा है वो सब केमिकल आदि से बनती है और उसके कोइ न कोई side effect है वर्तमानकाल में हम सभी को Ayurveda and naturopathy का ज्ञान होने की आवश्यकता है जिससे हमारी food habits को भी सुधार सकते है |हम किताब भी पढ़ सकते है |

वे ये कहते है हमे DR BSWAROOP ROY और राजिव dikshit को follow करना चाहिए और आयुर्वेदिक डॉ से इलाज करवाना चाहिए |आचार्य मनीषजी के clinic पुरे भारत में लगभग हर बड़े शहर में है |

डॉ उज्वला शाह उनको सालो से diabetes था मेने उनको DR BSWAROOP ROY के diet suggest किया था सिर्फ 5 दिन में ही ठीक हो गया
उनके diet से कई लोगो को corona भी ठीक हो गया है

आज के काल में pharma और hospitals की सोच " लोग स्वस्थ रहेंगे तो हमारा नुक्सान हो रहा है" इसी कारन स्वस्थ व्यक्ति को भी vaccine लगा कर उसको बीमार बनाया जाता है इसे कई सारे तथ्य net से आपको मिल जायेंगे

कुल मिलाकर हमे एलॉपथी को avoid करना है | Ayurveda and naturopathy के इलाज में समय लगता है परन्तु बीमारी जड से खतम होती है |

4 Likes