चेतना लक्षणं आनंद कंदनं - गीत

चेतना लक्षणं आनंद कंदनं,
वंदनं वंदनं वंदनं वंदनं ।।

शुद्धात्म हो सिद्ध स्वरूपी,
ज्ञान-दर्शनमयी हो अरूपी।
शुद्ध ज्ञानं मयं चेतना नंदनं,
वंदनं वंदनं वंदनं वंदनं ।।

द्रव्य नौ भाव कर्मों से न्यारे,
मात्र ज्ञायक हो इष्ट हमारे।
सु-समय चिन्मयं निर्मलानंदनं,
वंदनं वंदनं वंदना वंदनं ।।

पंच परमेष्ठी जिसको ही ध्याते,
तुम ही तारण-तरण हो कहाते।
शाश्वतं जिनवरं ब्रह्मानंदनं,
वंदनं वंदनं वंदनं वंदनं ।।

5 Likes