उत्तर भारत में अधिक विकास

क्या कारण हैं की पूर्व में अधिकतर मुनिराज दक्षिण भारत में होते हुए भी वहां जैन धर्म का विकास नहीं हुआ, और उत्तर भारत में अपेक्षाकृत अधिक विकास हुआ हैं?

1 Like

आप इस मामले की तह में जाऐंगे तो आपको जानकर हैरानी होगी कि जितने मंदिर, टोंक, चैत्यालयादि वहां है उतने उत्तर भारत में नहीं… वहां के बहुत से मंदिर अभी भी प्राचीर के हैं जो कि आज तक स्थित एवं काफी अच्छी अवस्था में हैं। ये वहां पर रहने वाले भलीभांति जानते होंगे कि वहां से प्राप्त शिलालेख, स्तम्भ आदि की क्या महत्वता है। इसके लिए आप खारवेल के शिलालेख, प्राकृत भाषा व तमिल, कन्नड़ लिपि के लेख तथा पाण्डुलिपियों के अध्ययन से इन सबकी गहराईयों के बारे में अभूतपूर्व जानकारियां प्राप्त कर सकते हैं।

4 Likes