ते गुरु मेरे मन बसो। Te guru mere mann baso

ते गुरु मेरे मन बसो।

ते गुरु मेरे मन बसो, जे भवजलधि जिहाज।
आप तिरहिं पर तारहिं, ऐसे श्री ऋषिराज।

मोह महारिपु जानिकैं, छोड्यों सब घर बार ।
होय दिगम्बर वन बसे, आतम शुद्ध विचार ।। ते गुरु. ।।

रोग उरग - बिल वपु गिण्यो, भोग भुजंग समान ।
कदली तरु संसार है, त्याग्यो सब यह जान ।। ते गुरु. ।।

रत्नत्रय निधि उर धरैं, अरु निर्ग्रन्थ त्रिकाल ।
मार्यो कामखवीस को, स्वामी परम दयाल ।। ते गुरु. ।।

पंच महाव्रत आदरें, पांचों समिति समेत ।
तीन गुपति पालैं सदा, अजर अमर पद हेत ।। ते गुरु. ।।

धर्म धरैं दशलाछनी, भावैं भावन सार ।
सहैं परिषह बीस द्वै, चारित - रतन - भण्डार ।। ते गुरु. ।।

जेठ तपै रवि आकरो, सूखै सरवर नीर ।
शैल - शिखर मुनि तप तपैं, दाझैं नगन शरीर ।। ते गुरु. ।।

पावस रैन डरावनी, बरसै जलधर धार ।
तरुतल निवसै तब यती, बाजै झंझा ब्यार ।। ते गुरु. ।।

शीत पडै कपि - मद गलैं, दाहै सब वनराय ।
तालतरंगनी के तटैं, ठाड़े ध्यान लगाय ।। ते गुरु. ।।

इहिं विधि दुद्धर तप तपैं, तीनों काल मँझार ।
लागे सहज सरूप मैं, तनसों ममत निवार ।। ते गुरु. ।।

पूरब भोग न चिंतवैं, आगम बांछैं नाहिं ।
चहुँगति के दुःखसों डरैं, सुरति लगी शिवमाहिं ।। ते गुरु. ।।

रंग महल में पौढ़ते, कोमल सेज विछाय ।
ते पच्छिम निशि भूमि में, सोवें सँवरि काय ।। ते गुरु. ।।

गजचढ़ि चलते गरवसों, सेना सजि चतुरंग ।
निरखि - निरखि पग वे धरैं, पालैं करुणा अंग । ते गुरु. ।।

वे गुरु चरण जहाँ धरैं, जग में तीरथ जेह ।
सो रज मम मस्तक चढ़ो, ‘भूधर’ माँगें एह ।। ते गुरु. ।।

4 Likes